बारिश में जमींदोज हुए सात मजदूरों के घर, अपात्र बनाकर नही दिया गया आवास

चरवा नगर पंचायत के वार्ड नंबर एक और दो का हैं मामला गिरे है  कच्चे मकान

चरवा,कौशाम्बी:(स्वतंत्र प्रयाग):तेज बरसात से ग्रामीण इलाकों मेें कच्चे मकानों के गिरने का सिलसिला जारी है। पिछले पांच दिन में दर्जनों मजदूरों के कच्चे मकान जमींदोज हो चुके हैं। रविवार शाम हुई तेज बारिश से चरवा में सात मजदूरों के कच्चे घर गिर गए। जिससे उने परिवार खुले आसमान के नीचे गुजर-बसर कर रहे हैं।

नगर पंचायत चरवा सहित कई गांवों में कच्चे मकानों के गिरने का सिलसिला जारी है। पिछले 10 दिनों में दो दर्जन से अधिक कच्चे मकान गिर चुके हैं जिससे कई परिवार खुले आसमान के नीचे गुजर-बसर कर रहे हैं। रविवार शाम हुई बारिश से नगर पंचायत चरवा के वार्ड नंबर एक राम विश्राम नगर पूरब थोक निवासी रमाशंकर उपाध्याय पुत्र बजरंग बली उपाध्याय के मकान में बारिश का पानी भर गया।

 जिससे कच्चा मकान भरभरा कर ढ़ह गया। हालांकि मलबे में दबने से कोई जनहानि नहीं हुई है। बताया जाता है कि रामशंकर उपाध्याय मेहनत मजदूरी कर परिवार का भरण पोषण करता है। रामशंकर उपाध्याय कई बार ग्राम प्रधान से आवास की मांग किया, लेकिन उसे पात्रता की सूची में शामिल नहीं किया गया।

 हालांकि ईओ दिनेश कुमार सिंह को रामशंकर उपाध्याय का मकान गिरने की जानकारी हुई तो उन्होंने आवेदन कराकर जल्द से जल्द आवास के लाभ से लाभांवित कराने की बात कही है। इसी तरह कस्बे के ही वार्ड नंबर दो चरक मुनि नगर दक्षिण थोक में  भी गनेश कुमार भारतीय, राजेंद्र कुमार भारतीय, नरेश भारतीय, प्रकाश, आकाश और बृजेश का भी कच्चा मकान बारिश के चलते ढ़ह गया। सभी ने मामले की जानकारी ईओ दिनेश कुमार सिंह को देते हुए आवास की मांग की है।

विकास मिश्रा 

ब्यूरो हेड कौशाम्बी 

टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

सरायइनायत में सराफा की दुकान से लाखों की लूट, दुकान खुलते ही चार पांच की संख्या में पहुंचे लुटेरों ने दिया घटना को अंजाम

जिलाधिकारी ने विकास खण्ड करछना, मेजा एवं कोरांव में आयोजित गरीब कल्याण मेले में पहुंचकर विभिन्न विभागों के द्वारा लगाये गये स्टाॅलों का किया अवलोकन

विभिन्न आयु वर्गो हेतु चयन ट्रायल 15 अगस्त को