आजादी में शहीद हुए वीर सपूतों को याद रखना युवाओं की जिम्मेदारी

भव्यता के साथ कोरांव में मनाया गया  आजादी का अमृत महोत्सव

कोरांव,प्रयागराज:(स्वतंत्र प्रयाग): आजादी की लड़ाई में शहीद हुए वीर सपूतों को याद रखना आज युवा पीढ़ी की जिम्मेदारी है। आजादी में शहीद हुए वीर सपूतों को याद रखने के लिए ही उत्तर प्रदेश की योगी सरकार आजादी अमृत महोत्सव कार्यक्रम के जरिए आजादी में शहीद हुए एवं लड़ाई में सहयोग करने वाले स्वतंत्रता संग्राम सेनानियों के आश्रितों एवं परिजनों को सम्मानित करने का काम कर रही है।

 जो काबिले तारीफ है। उक्त बातें कोरांव ब्लाक परिसर में आयोजित अमृत महोत्सव कार्यक्रम को संबोधित करने के दौरान नगर पंचायत कोरांव के चेयरमैन नरसिंह कुमार केसरी उर्फ गोपाल जी ने बतौर मुख्य अतिथि कही। कोरांव में अमृत महोत्सव कार्यक्रम में माध्यम से कुल 15 स्वतंत्रता संग्राम सेनानियों के परिजनों को साल देते हुए माल्यार्पण कर सम्मानित किया गया।

 चित्रकार भारतीय किसान संघ काशी प्रांत के प्रांत उपाध्यक्ष भोला शर्मिंदा है संबोधित करते हुए कहा कि आजादी की लड़ाई में देश के कई सपूत कुर्बानी दी थी जिन्हें याद रखना हम सब का नैतिक कर्तव्य है। शहीदों के परिजनों को सम्मानित करने के पूर्व उपस्थित सभी अतिथिगणों एवं अधिकारियों के द्वारा शहीद स्मारक स्थल पर माल्यार्पण कर पुष्प अर्पित किया गया।

 जहां उपजिलाधिकारी कोरांव अभिनव कनौजिया, खंड विकास अधिकारी रमाशंकर सिंह, थाना प्रभारी कोरांव रविन्द्र प्रताप सिंह, सहित कई अन्य गणमान्य लोगों ने पुष्प अर्पित कर शहीदों को श्रद्धांजलि दी। 

सरदार पटेल इंटर कॉलेज के प्रधानाचार्य डा अवधेश कुमार सिंह ने शहीदों के जीवन पर प्रकाश डालते हुए कहा कि जंगे आजादी के पहले स्वतंत्रता संग्राम 1857 में ब्रिटिश हुकूमत के खिलाफ पूर्वांचल के तमाम नौजवान युवा क्रांतिकारियों  ने फिरंगियों के खिलाफ बगावत की आग उनके दिलों में सुलग रही थी , ऐसे लोग आवाम के हीरो बन चुके थे । 

बस केवल उसे भड़काने के लिए महज एक चिंगारी की जरूरत थी। ऐसे ही माहौल में उस क्षेत्र में महात्मा गांधी का 1917 में आना हुआ जिसके बाद 1 अगस्त 1920, को बाल गंगाधर तिलक की मृत्यु के बाद गांधी जी कांग्रेस के सर्वमान्य नेता बनकर उभरे।

अजय प्रताप सिंह 

टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

प्रधानमंत्री जी भारतीय आयुर्वेद चिकित्सा में,लेमन थेरेपी से कोरोना वायरस को मिल रही है मात,:-पूर्व डीजीपी मैथलीशरण गुप्त

Coronavirus से घबराएं नहीं,दो बूंद नींबू का रस लें, पिएं हल्दी युक्त गुनगुना पानी :-पूर्व डीजीपी मैथिलीशरण गुप्त

कल से बदल जाएंगे कई नियम , आम आदमी की जेब और घर के बजट पर इसका सीधा असर