घटतौली का शिकार हो रहे हैं ग्रामीण वासी

 

कई बार उच्चाधिकारियों से शिकायत के बावजूद नहीं होती है कारवाई

सरायअकिल, कौशाम्बी: ग्रामीणों के द्वारा बताया गया कि राशन की दुकान पर पुराने ढर्रे के हिसाब से ही कांटा बाट का इस्तेमाल करके राशन का वितरण काफी लंबे अरसे से किया जा रहा है जिसमें कई प्रकार की खामियां पाई जा रही हैं जिसमें जो राशन का वितरण होता है उसमें घटतौली का भी शिकार लोग हो रहे हैं और प्रत्येक यूनिट के हिसाब से राशन का वितरण नहीं किया जा रहा है जिससे ग्रामीणों ने कई बार उच्चाधिकारियों को इस प्रकरण को उठाया भी लेकिन उनकी आवाज को दबाने का काम किया गया जिससे ग्रामीण आज भी मायूस होकर उसी रास्ते पर चलने को मजबूर है प्राप्त जानकारी के अनुसार विकासखंड नेवादा की ग्राम पंचायत भगवान पुर बहुंगरा  में संचालित राशन की दुकान जिसमें सरकार भले ही राशन की दुकान की व्यवस्था को सुधारने के लिए कई अहम प्रयास किए गए लेकिन उन प्रयासों को राशन की दुकान में संचालित कराने में पूर्णता सप्लाई इंस्पेक्टर भी विफल साबित हो रहे  हैं जिसमें अधिकांश दो ग्राम पंचायतों में इलेक्ट्रॉनिक कांटा की जगह पुराने ढर्रे के हिसाब से कांटा बाट से राशन को मापा जा रहा है जिससे उन कांटा बाट में उपभोक्ता घटतौली का शिकार महसूस कर रहे हैं । और प्रत्येक यूनिट के हिसाब से ग्रामीणों को राशन भी नहीं मिल पा रहा है


जिसमें कई लोगों से इस संबंध में पूछा गया तो उन लोगों ने बताया कि यह समस्या पूरे ग्राम पंचायत में बनी हुई है और जो राशन मिलता है 30 किलो मे 26 किलो ही आता है वह भी कम कोटेदार के द्वारा दिया जा रहा है ग्रामीणों ने बताया यह कोटेदार काफी समय से गांव में दबदबा बनाए हुए हैं और इनकी दुकान सप्लाई स्पेक्टर की सांठगांठ से संचालित हो रही है और इनका पैसा भी ऊपर तक पहुंचा दिया जाता है जिसकी शिकायत काई बार उच्च धिकारियों कि गई परान्तु कार्यवाही नहीं हो रही है 

ग्रामीणो ने जिले के जिला अधिकारी महोदय का ध्यान इस ओर आकर्षित कराया है।

विकास मिश्रा 

ब्यूरो हेड कौशाम्बी 

टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

प्रधानमंत्री जी भारतीय आयुर्वेद चिकित्सा में,लेमन थेरेपी से कोरोना वायरस को मिल रही है मात,:-पूर्व डीजीपी मैथलीशरण गुप्त

Coronavirus से घबराएं नहीं,दो बूंद नींबू का रस लें, पिएं हल्दी युक्त गुनगुना पानी :-पूर्व डीजीपी मैथिलीशरण गुप्त

कल से बदल जाएंगे कई नियम , आम आदमी की जेब और घर के बजट पर इसका सीधा असर