व्यापारियों ने कहा, लाइलाज हुई बिजली समस्या


बिजली मंत्री से मिले शंकरगढ़ के परेशान व्यापारी,की मुलाकात


शंकरगढ़,प्रयागराज: (स्वतंत्र प्रयाग):  विद्युत फीडर में लगे पैनल ने साथ दिया तो ट्रांसफार्मर फुंक जाता है और यदि दोनों सही रहा तो वर्षों पुराने जर्जर हो चुके विद्युत तार साथ छोड़ देते हैं। यह समस्या सालों से अनवरत चली आ रही है, जिसका अभी तक कोई ठोस समाधान नहीं हो पाया है। इसी समस्या को लेकर रविवार को शंकरगढ़ 

व्यापार मंडल के पदाधिकारियों ने ऊर्जा राज्यमंत्री रमाशंकर पटेल से मुलाकात की और इन समस्याओं के निदान की मांग उठाई। व्यापारियों ने बताया कि उनके यहां जितने कनेक्शन हैं, उस हिसाब से ट्रांसफार्मरों की संख्या कम है। 

इसलिए शंकरगढ़ में 400 केवीए का एक और ट्रांसफार्मर लगाया जाना चाहिए। विद्युत उपकेंद्र से जुड़े फीडर के पैनल पुराने हो चुके हैं, जो आए दिन खराब हो जाते हैं। इस वजह से भी अक्सर फाल्ट की समस्या बनी रहती है। विद्युत आपूर्ति होने के बावजूद घंटों लाइट गुल रहती है।

व्यापार मंडल ने यह भी बताया कि यहां की 11 हजार वोल्ट की लाइन का तार काफी पुराना है और कमजोर हो गया है। इस वजह से हल्की हवा में भी आए दिन फाल्ट हो जाता है। विद्युत उपकेंद्र शंकरगढ़ पर डिस्क, इंसुलेटर, केबिल, तार, खूंटी, लाक जैसे सामानों की भी किल्लत बनी रहती है।

 इस वजह से फाल्ट ठीक करने में घंटों का समय लग जाता है।व्यापारियों ने कहा कि शंकरगढ़ कस्बा पहाडी़ क्षेत्र में स्थित है। इसलिए यहां की पेयजल व्यवस्था पूरी तरह से बिजली पर ही निर्भर है, ऐसे में यदि एक दिन भी बिजली नहीं मिलती तो पूरे क्षेत्र में पेयजल के लिए हाहाकार मच जाता है।

इस पर ऊर्जा राज्य मंत्री ने तत्काल कार्यवाही का आदेश दिया है। इस प्रतिनिधि मंडल में मुख्य रूप से व्यापार मंडल अध्यक्ष मूलचंद्र गुप्ता, महामंत्री रतन केसरवानी, उपाध्यक्ष जय केसरवानी एवं विश्व हिंदू परिषद बजरंग दल के नगर संयोजक एवं सभासद प्रतिनिधि सुजीत कुमार केसरवानी मौजूद रहे।

टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

प्रधानमंत्री जी भारतीय आयुर्वेद चिकित्सा में,लेमन थेरेपी से कोरोना वायरस को मिल रही है मात,:-पूर्व डीजीपी मैथलीशरण गुप्त

Coronavirus से घबराएं नहीं,दो बूंद नींबू का रस लें, पिएं हल्दी युक्त गुनगुना पानी :-पूर्व डीजीपी मैथिलीशरण गुप्त

कल से बदल जाएंगे कई नियम , आम आदमी की जेब और घर के बजट पर इसका सीधा असर