मां ने अपने मासूम दो बच्चों के साथ ट्रेन के आगे लगाई छलांग, मां बेटी की मौत, बच्चा बचा

 

घूरपुर,प्रयागराज:(स्वतंत्र प्रयाग): इलाके के इरादतगंज ओवर ब्रिज के नीचे रेलवे ट्रैक पर रीवा की तरफ जा रही ट्रेन के आगे एक मां ने अपने दो मासूम बच्चों को लेकर आत्महया करने के लिए छलांग लगा दी जिससे मौक़े पर ही मां और बेटी की मौत हो गई। 

जबकि बच्चा बाल बाल बच गया। घटना देख आस पास के लोगों की भीड़ लग गई।सूचना पर पहुंची पुलिस जांच पड़ताल कर शव की शिनाख्त करने के बाद दोनो शव को पीएम के लिए भेजा।

जूही शंकरगढ़ निवासी पिंटू जायसवाल चार वर्ष पूर्व से नैनी के चाका में किराए का कमरा लेकर अपनी पत्नी रीता जायसवाल 28 वर्ष और बेटा हर्ष 12 वर्ष व बेटी कोमल 8 वर्ष के साथ रहता है। पिंटू जायसवाल फतेहपुर के बिंदकी मे शराब के ठेके की दुकान पर नौकरी करता है। 

विगत एक माह से बिंदकी शराब की दुकान ही गया था। रविवार के सायंकाल रीता जायसवाल अपने बेटे हर्ष और बेटी कोमल के साथ घूरपुर के इरादतगंज ओवर ब्रिज के नीचे मुंबई रेलवे ट्रैक पर पहुंची।प्रत्यक्षदर्शियों ने बताया की महिला अपने दोनों बच्चों के साथ ओवर ब्रिज के नीचे रेलवे ट्रैक के पास चबूतरे पर अपने दोनों बच्चों के साथ बैठी थी।

 

कि शहर से रीवा की तरफ जा रही ट्रेन के आते ही अपने दोनो बच्चों के साथ ट्रेन के आगे छलांग लगा दी। जिससे मां और बेटी की मौत हो गई और बच्चा बाल बाल बच गया। पुलिस ने जांच पड़ताल कर दोनों शव को पीएम के लिए भेजा। हर्ष कक्षा 6 का और कोमल कक्षा तीन की छात्रा थी।

हांथ से छूटते ही मौके से भाग निकला था मासूम बच्चा

प्रत्यक्षदर्शियों ने बताया की महिला अपने दोनों बच्चों का दबोच ट्रेन के आगे छलांग लगाते समय बेटा हर्ष अचानक छूट गया। छूटते ही बच्चा रेलवे ट्रैक के बाहर चीखते हुए भाग निकला था। जिससे उसकी जान बच गई। बच्चा इतना डरा सहमा था कि वह कुछ बोल नहीं रहा था। सिर्फ़ वह चाका बता रहा था। तो उसे युवक महेश यादव ने चाका लेकर उसके घर पहुंचा तो परिजनों को जानकारी हुई। तो परिजनो में कोहराम मच गया।

मासूम बच्चों को नही मालूम था कि मां हम दोनों सहित आत्महत्या करेगी

हर्ष ने बताया कि मा हम दोनों को घुमाने के बहाने लेकर आई थी थोड़ा भी आत्महत्या करने की भनक नहीं लगी ट्रेन आते ही हम दोनो का हाथ जोर से पकड़ ट्रेन के सामने दौड़ी तो हमारा हाथ छूट गया और मैं ट्रेन से बचन  के लिए भाग निकला।

मृतका की बहन बोली रीता जिद्दी और बिमार थी

मृतका रीता की छोटी बहन रूपा जो चाका मे ही रहती थी वह घटना स्थल पर पहुंची। तो पुलिस से बताया कि रीता जिद्दी स्वभाव की थी और बीमार भी थी फूंक झाड़ मे विश्वास करती थी। भूत प्रेत का भी चक्कर था। जिससे वह बच्चों सहित आत्महत्या करने पहुंच आत्महत्या की। फिलहाल मामला संदिग्ध लग रहा है। मौत के मुंह से बचा हर्ष पुलिस से कुछ बताने वाला ही था कि उसकी मौसी रूपा ने उसे रोक दिया। यह देख लोग सकते मे आ गए। बताया गया की मृतका की एक बहन मामा भांजा तालाब नैनी मे भी रहती है। दोनो बहने घटना स्थल पर पहुंची थी।

बहन रूपा के चेहरे पर रीता की मौत का नहीं दिखा शिकन::

घटना स्थल पर पहुंची दोनो बहनों के साथ उसके परिजनो मे जहां रीता और उसकी बेटी की मौत से गमगीन दिखी और एक बहन रोते बिलखते गिर गई वहीं रुपा के चेहरे पर बड़ी बहन व बेटी की मौत का कोई ग़म और शिकन नही दिखा। अब रीता के बच्चो सहित आत्महत्या करने की असली वजह क्या है। ये जांच के बाद ही पता चलेगा।


टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

प्रधानमंत्री जी भारतीय आयुर्वेद चिकित्सा में,लेमन थेरेपी से कोरोना वायरस को मिल रही है मात,:-पूर्व डीजीपी मैथलीशरण गुप्त

Coronavirus से घबराएं नहीं,दो बूंद नींबू का रस लें, पिएं हल्दी युक्त गुनगुना पानी :-पूर्व डीजीपी मैथिलीशरण गुप्त

कल से बदल जाएंगे कई नियम , आम आदमी की जेब और घर के बजट पर इसका सीधा असर