आषाढ़ पूर्णिमा पर धाम पहुंचे श्रद्धालुओं ने किया गंगा स्नान

सिराथू, कौशाम्बी:(स्वतंत्र प्रयाग):  आषाढ़ पूर्णिमा पर्व पर शनिवार को कड़ा धाम पहुंचे हजारों श्रद्धालुओं ने पतित पावनी मां गंगा में स्नान दान कर म़ां शीतला के दरबार में पूजा अर्चना की सुबह से लेकर देर शाम तक स्नान दान का सिलसिला चलता रहा। कड़ा धाम के कुबरीघाट  , कालेश्वरघाट  , हनुमानघाट , बाजारघाट गंगा घाटों मे पहुंचकर भक्तों ने मां गंगा को नमन कर स्नान किया इसके बाद पतित पावनी की पूजा अर्चना कर जीवन में सुख समृद्धि  का वरदान मांगा। स्नान के बाद 51 शक्तिपीठों में से एक स्थापित मां शीतला के मंदिर मे पहुंचकर नारियल , चुनरी चढा कर श्रद्धालुओं ने मां भगवती की पूजा  की । 

गंगा घाटों पर सुबह से ही स्नान करने वालों का रेला पहुचने लगा था जोकि देर शाम तक चलता रहा। श्रद्धालुओं की सुरक्षा के लिए पुलिस बल की व्यापक व्यवस्था की गई थी। धाम के भीतर बड़े और छोटे वाहनों का प्रवेश रोक दिया गया था जिसकी वजह से श्रद्धालुओं को जाम की समस्या से नहीं जूझना पड़ा वही मां शीतला के मंदिर के पास महिला पुलिस व पुरुष आरक्षियों  तैनात किया गया था।

नागा बाबा की कुटी में नहीं आयोजित हुआ आषाढ़ी मेला

नागा  बाबा की कुटी में गुरु पूर्णिमा के अवसर पर दो दिवसीय ऐतिहासिक मेले का आयोजन कई दशकों से होता था  ।कोरोना संक्रमण काल के चलते इस साल भी मेले का आयोजन नहीं किया गया। नागा बाबा की कुटी में आषाढ़ महीने के गुरु पूर्णिमा पर मेले मे गुरु पूजा कार्यक्रम का आयोजन होता है जहां क्षेत्र सहित गैर प्रांतों से सैकड़ो की तादात में आने वाले भक्तों द्वारा नागा बाबा का पूजन कर आशीर्वाद लेकर भंडारे का आयोजन किया जाता था एव मेले में सैकड़ो की तादात में दुकानें लगती थी लेकिन कोविड-19 के चलते इस साल कार्यक्रम का आयोजन नहीं हुआ है। जिसकी वजह शामिल होने वाले श्रद्धालुओं को मायूस होना पड़ा है ।

टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

प्रधानमंत्री जी भारतीय आयुर्वेद चिकित्सा में,लेमन थेरेपी से कोरोना वायरस को मिल रही है मात,:-पूर्व डीजीपी मैथलीशरण गुप्त

Coronavirus से घबराएं नहीं,दो बूंद नींबू का रस लें, पिएं हल्दी युक्त गुनगुना पानी :-पूर्व डीजीपी मैथिलीशरण गुप्त

कल से बदल जाएंगे कई नियम , आम आदमी की जेब और घर के बजट पर इसका सीधा असर