नगर पंचायत अझुवा में व्याप्त भ्र्ष्टाचार के विरुद्ध लामबद्ध हुवे सभासद

  


 जिलाधिकारी कौशाम्बी को  शपथ पत्र देकर व्याप्त भ्रष्टाचार की जांच करवाने की कि मांग 


अझुवा,कौशाम्बी: (स्वतंत्र प्रयाग): नगर पंचायत अझुवा भृष्टाचार मामले में काफी दिनों से चर्चा में रहा अधिशाषी अधिकारी वा चेयरमैन की मिलीभगत से करोड़ो रूपये बंदरबाट किये गए जिसके विरुद्ध नगर पंचायत के सभासदों ने जिलाधिकारी से मिलकर शिकायती पत्र दिए थे।

परंतु उच्च अधिकारियों द्वारा जांच नही करवाई गई यही नही सभासदों द्वारा सूचना के अधिकार के तहत विन्दु वार सूचना मांगी गई थी लेकिन नगर पंचायत कार्यालय में तैनात अधिशाषी अधिकारी द्वारा सूचनाएं भी नही दी गयी।

 जिससे सभासदों ने हलफनामा सपथ पत्र के साथ पुनः जिलाधिकारी कौशाम्बी से मिलकर व्याप्त भृष्टाचार वा गबन की  जिलास्तरीय टीम गठित कर जांच करने की मांग की सभासदों ने बताया कि लगभग सवा दो करोड़ रूपये से जेम पोर्टल के तहत उपकरणों की खरीद की गई है जिसमे वास्तविक रेट से दोगुना धन निर्गत किया गया इसी तरह स्ट्रीटलाइटों की खरीद में धांधली की गई है।

यही नही कुछ ऐसे उपकरण खरीदे गए जिनका कोई उपयोग नही और वो उपकरण कबाड़ में तब्दील हो गए सभासदों ने जिलाधिकारी कौशाम्बी को यह भी अवगत कराया कि सरकार की महत्वाकांक्षी योजना करोड़ो रूपये की लागत से हो रहे गौशाला निर्माण में बुरी तरह धांधली की गई है ।

नगर पंचायत कार्यालय में व्याप्त भृष्टाचार के विरुद्ध सभासदों ने बताया कि  कार्यालय द्वारा बोर्ड की बैठक बिना कराए ही प्रस्ताव बना कर टेंडर कार्य किये जा रहे है जो नियम के विरुद्ध है यदि अब भी उच्चाधिकारियों द्वारा यदि जाँच कर दोषियों के विरुद्ध कार्यवाही नही की गई तो इसकी शिकायत मुख्यमंत्री से की जाएगी ।मुख्यरूप से ज्ञानचंद्र पाल, पीयूष सिंह,नीलम वैश्य,गोविंदी देवी,सुघर सिंह ,फूलचंद्र ,सौरभ केसरवानी,चन्द्रपाल सिंह ,विजय कुमार आदि मुख्य रूप से शिकायती पत्र दिए।

टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

प्रधानमंत्री जी भारतीय आयुर्वेद चिकित्सा में,लेमन थेरेपी से कोरोना वायरस को मिल रही है मात,:-पूर्व डीजीपी मैथलीशरण गुप्त

Coronavirus से घबराएं नहीं,दो बूंद नींबू का रस लें, पिएं हल्दी युक्त गुनगुना पानी :-पूर्व डीजीपी मैथिलीशरण गुप्त

कल से बदल जाएंगे कई नियम , आम आदमी की जेब और घर के बजट पर इसका सीधा असर