हर मेड़ पर पेड़' नारे के साथ अमृत महोत्सव कार्यक्रम का जिलाधिकारी ने किया उदघाटन


चित्रकूट ब्यूरो:(स्वतंत्र प्रयाग): भारत की आजादी का अमृत महोत्सव के अंतर्गत भारतीय कृषि अनुसंधान परिषद के 93वें स्थापना दिवस का कार्यक्रम कृषि विज्ञान केंद्र दीनदयाल शोध संस्थान चित्रकूट गनीवा मे मनाया गया। जिसका उद्देश्य आत्मनिर्भर कृषि एवं निर्धारित था।  इस कार्यक्रम का शुभारंभ जिलाधिकारी शुभ्रान्त कुमार शुक्ल, उप जिलाधिकारी कर्वी  आकांक्षा सिंह,  डॉ चन्द्रमणि त्रिपाठी केंद्र प्रमुख की उपस्थिति में संपन्न हुआ।

                       जिलाधिकारी ने केंद्र पर स्थापित सभी प्रदर्शन इकाइयों समन्वित खेती प्रबंधन, मत्स्य पालन इकाई, भेड़ बकरी, मुर्गी, सुअर पालन, गोपालन भैंस पालन इकाइयों का भ्रमण किया गया। साथ ही ट्राईबल सब प्लान अंतर्गत किसानों को आटा चक्की, सिंचाई हेतु पंपिंग सेट एवं पाइप, सब मरसिबल पंप  एवं पारिवारिक स्वास्थ्य की दृष्टि से गृह वाटिका स्थापना के लिए सब्जियों के बीज महिला कृषको को उपलब्ध कराए गए।

 जिलाधिकारी ने किसान और महिलाओं का मार्गदर्शन करते हुए कहा कि भारत ने अकाल का ऐसा समय भी देखा है कि भूख के कारण गोबर से अनाज निकालकर खाते थे। 

भारतीय कृषि अनुसंधान परिषद कि स्थापना एवं हरित क्रांति के कारण आज हमारे पास खाने की कोई कमी नहीं है , लेकिन आगे भी हमे चुनौतियों से निपटना है। आज उर्वरको से मिट्टी खराब हो रही है। देसी खाद का प्रयोग करने कि जरूरत है। 

कृषको के पास ज्ञान का भंडार है लेकिन उसका प्रयोग खेतों एवं खेती पर करना है।आबादी बढ़ रही है इसलिए हमे सतर्क रहने कि जरूरत है। फसल सुरक्षा पर ध्यान देने कि जरूरत है। भारत सरकार का प्रयास है कि कृषको द्वारा एफ़पीओ बनाकर खेती को लाभकारी बनाया जा सकता है। परिश्रम से ही तकदीर बदलती है। उत्तम खेती पहले भी थी और आज भी उत्तम है। 

तकनीकी किसानों की आय दुगनी करने का यह उत्तम साधन है। परंपरागत खेती से हटकर उन्नत खेती करने कि आवश्यकता है। इस केंद्र से  किसान उन्नत किस्म के बीज तकनीकी प्राप्त कर एवं रोजगार के नए नए अवसर एवं मूल्यवर्धन कर निश्चित रूप से आगे बढ़ रहे हैं। इसका लाभ उठाए ।

 इसके पूर्व किसानो को समेकित खेती, गौ आधारित खेती तथा खाद्य प्रसंस्करण पर तकनीकी जानकारी दी गई। इस अवसर पर जिलाधिकारी द्वारा सागौन के पौधो का रोपण कर बृहद वृक्षारोपन कार्यक्रम का शुभारम्भ किया गया।

 इस अवसर केंद्र के वरिष्ठ वैज्ञानिक डा० चन्द्रमणि त्रिपाठी ने केंद्र की गतिविधियों कि जानकारी दी तथा जिलाधिकारी  का स्वागत किया।          

                            कार्यक्रम मे केंद्र के वैज्ञानिक ममता त्रिपाठी, कमला शंकर शुक्ला,विजय कुमार गौतम,गोविद वर्मा, एवं मनोज शर्मा आदि मौजूद रहे।कार्यक्रम मे ११० किसानो एवं महिलाओं कि उपस्थिती रही।

टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

प्रधानमंत्री जी भारतीय आयुर्वेद चिकित्सा में,लेमन थेरेपी से कोरोना वायरस को मिल रही है मात,:-पूर्व डीजीपी मैथलीशरण गुप्त

Coronavirus से घबराएं नहीं,दो बूंद नींबू का रस लें, पिएं हल्दी युक्त गुनगुना पानी :-पूर्व डीजीपी मैथिलीशरण गुप्त

कल से बदल जाएंगे कई नियम , आम आदमी की जेब और घर के बजट पर इसका सीधा असर