गौहनिया पुलिस चौकी के सामने दिन दहाड़े पत्रकार के साथ मार पीट करते हुए मोबाइल तथा पैसा छीना

 


पत्रकारों के साथ हो रहे अपराध रुकने का नाम नहीं ले रहे

                                         

गौहनिया पुलिस की दिखी घोर लापरवाही



यमुनापार, प्रयागराज: घूरपुर थाना क्षेत्र के गौहनिया चौकी अंतर्गत गौहनिया बाजार में एक पत्रकार के साथ दिनदहाड़े मारपीट और की गई लूटपाट की घटना को अन्जाम दिया गया । 

मिली जानकारी के अनुसार घूरपुर थाना क्षेत्र के गौहनिया चौकी के सामने गुरुवार को शाम 5:00 बजे सरे-आम बाजार में हो रही मारपीट को कवरेज करने के लिए पत्रकार राजेंद्र प्रताप सिंह उर्फ पिंटू सिंह जारी ने जब मारपीट को कवरेज करने की कोशिश की उसी दौरान मारपीट कर रहे युवको ने पत्रकार को देख कर उनका  पारा गरम हो गया।

 और पत्रकार पिंटू सिंह के साथ गौहनिया चौकी से महज 15 मीटर की दूरी पर मारपीट करते हुए दिनदहाड़े लूटपाट की गई । जिसमें पत्रकार पिंटू सिंह ने मारपीट कर रहे युवको को ग्रामीणों की मदद से धर दबोचा और गौहनिया पुलिस के हवाले किया । लेकिन इतनी बड़ी घटना हो रही थी और गौहनिया चौकी पर पुलिस बैठी तमाशा देख रही थी । 

जिससे यह देखा जाता गया कि पुलिस अपने ड्यूटी पर कितना जागरूक है । जिससे यह मामला देख क्षेत्र के लोगों में दिनदहाड़े एक पत्रकार के साथ मारपीट लूटपाट करते हुए उनके होश उड़ गए । जब कि भुक्तभोगी पत्रकार ने थानाध्यक्ष घूरपुर को अपने साथ किए गए मारपीट और लूटपाट की लिखित रूप से तहरीर दिया । 

इसके बावजूद घूरपुर पुलिस ने आरोपियों के खिलाफ कार्यवाही करने के बजाय,  शान्ति भंग में चालान कर दिया गया । जबकि घूरपुर पुलिस पत्रकार के साथ हुई घटना को एकदम हल्के में ले रही है ।

 जब कि आरोपी आकाश पुत्र दुर्विजय सिंह निवासी गंज थाना घूरपुर तथा राजीव पुत्र मूलचन्द निवासी बुदांवा थाना घूरपुर ने थाना परिसर में देख लेने की धमकी दे डाली । जिससे भुक्तभोगी पत्रकार ने दिनदहाड़े हुई घटना को लेकर वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक प्रयागराज से गुहार  लगाई है कि तत्काल आरोपियों के खिलाफ मारपीट और लूटपाट का मुकदमा दर्ज कर उनके खिलाफ कठोर से कठोर कार्रवाई की जाय ।

 वही उनके द्वारा बताया गया कि इन आरोपियों से हमें जान माल का भी खतरा बना हुआ है । अगर इनके खिलाफ कठोर कार्रवाई नहीं की गई तो कभी भी यह हमारे ऊपर जानलेवा हमला कर सकते हैं ।

 जैसा कि 2 दिन पहले खीरी थाना क्षेत्र में एक पत्रकार की अज्ञात बदमाशों द्वारा निर्मम हत्या कर दी गई और अभी तक आरोपी पुलिस से कस्टडी से कोसों दूर हैं । अगर समय रहते पत्रकारों के सुरक्षा के लिए प्रदेश सरकार रिया उच्च अधिकारियों द्वारा कोई ठोस कदम नहीं उठाएगी तो पत्रकारों के साथ आये दिन मारपीट लूटपाट और हत्याएं जैसी जघन्य अपराध होते रहेंगे ।

टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

प्रधानमंत्री जी भारतीय आयुर्वेद चिकित्सा में,लेमन थेरेपी से कोरोना वायरस को मिल रही है मात,:-पूर्व डीजीपी मैथलीशरण गुप्त

Coronavirus से घबराएं नहीं,दो बूंद नींबू का रस लें, पिएं हल्दी युक्त गुनगुना पानी :-पूर्व डीजीपी मैथिलीशरण गुप्त

कल से बदल जाएंगे कई नियम , आम आदमी की जेब और घर के बजट पर इसका सीधा असर