शनिवार, 5 जून 2021

कोरोना टेस्टिंग व लोगों के इलाज को लेकर ICMR टीम को पूर्व डीजीपी म.प्र. ने लिखा पत्र



भोपाल (स्वतंत्र प्रयाग) आज देश में कोरोना त्रासदी की बढ़ती संख्या कहीं न कहीं चिन्ता का विषय है, फिलहाल इसी मुद्दे पर आज पूर्व डीजीपी म.प्र. मैथलीशरण गुप्त जी ने ICMR टीम, से एक आग्रह पत्र लिखा है ,पत्र में श्री गुप्त जी ने  ICMR टीम से आग्रह किया है कि कोरोना रूपी इस संकट के संदर्भ में मेरे द्वारा पूर्व में ही प्रधानमंत्री जी, को कोरोना संक्रमण की विभिषिका के चिंतन को लेकर एवं देश के लोगों में कोरोना कहीं और भयावह रूप न धारण करें इसलिए   नासिका छिद्रों में नींबू के रस की दो बूदों के उपयोग मात्र से ही इस महा त्रासदी से सफलता पूर्वक निपटनें की क्षमता के संदर्भ में लिखे गये, पूर्व पत्रों के संदर्भ में ग्रहण करें।अत्यंत हर्ष का विषय है कि अंततः मुझे नींबू रस की कोरोना वायरस को सीधे सम्पर्क मेंआने पर मारने की क्षमता को निम्नानुसार वैज्ञानिक ढंग से सत्यापित करने में सफलता मिली है--

हमने RT-PCR टेस्ट करने वाली लैब से सम्पर्क कर उन्हें दो-दो सेम्पल नाक व मुंह के एकत्रित कराए व जो सेम्पल कोरोना पॉजिटिव पाए गए उनके दूसरे सैंपल को 3 मि.ली. नींबू रस में डुबोया व पुनः टेस्ट करने पर यह पाया गया कि नींबू रस के द्वारा कोरोना वायरस की बाहरी सतह के साथ-साथ RNA को भी तोड़कर इसे पूर्णतः नष्ट कर देना पाया गया। अतः नींबू रस कोरोना वायरस को मारने में सक्षम है यह तथ्य अब वैज्ञानिक ढंग से भी प्रमाणित हो

चुका है। नासिका से दी गयी दो दो बूंदें अपर रेस्पिरेटरी ट्रैक्ट में स्थित सभी कोरोना वायरस को कुछ ही क्षणों में पूर्णतया नष्ट करने व एपिग्लोटिस को स्टीमुलेट कर व उल्टी कारित कर 80% कोरोना वायरस को लोड को कम करने की क्षमता को जानते हुए लोगों को मरने व धन लोलुप लोगों के रहमो-करम पर छोड़ना क्या अत्यंत ही भयावह नही है?

मैं स्वयं पिछले 53 दिनों से नींबू का रस नासिका छिद्रों में डाल रहा हूं यह पूर्णतया सुरक्षित है ,बल्कि यह श्वसन से जुड़ अधिकांश बीमारियों को भी दूर करेगा व आपका श्वसन का अहसास भी गहरा व बेहतर हो जाएगा। यह तथ्य मैं व्यक्तिगत अनुभव के आधार पर लिख रहा हूँ। आप मेरे निम्न अनुरोध पर जरूर विचार करें--

RT-PCR के संबंध में पूर्ण प्रक्रिया सॉफ्टवेयर के माध्यम से ICMR द्वारा जनहित में नियंत्रित की जा रही है तथा सभी टेस्ट की रिपोर्ट आपको प्रेषित की जा रही है, आपको कोरोना ट्रीटमेंट के लिए नोडल संस्था के रूप में मान्यता दी गयी है। अतः आपसे अनुरोध है कि आप करोना टेस्टिंग लेब्स को निर्देश

दें कि वे उपरोक्तानुसार एक की जगह नाक एवं मुंह के दो-दो सैंपल लेंव उन्हें A and B नामित करें। A सेम्पल को पूर्व निर्धारित प्रक्रिया के तहत टेस्ट किया जाए एवं पॉजिटिव आए सेम्पल के B सेम्पल को VTM के स्थान पर नींबू के रस सेट्रीट करें। नींबू का रस कोरोना वायरस की बाहरी सतह के साथ-साथ RNA structure को भी नष्ट कर रहा है यह प्रमाण आपको अपने सॉफ्टवेयर के माध्यम से 24 घंटे में प्राप्त हो जाएंगे। इन परिणामों को दो-तीन दिन में कम्पाइल किया जाए, व रिसर्च पेपर के रूप में प्रकाशित किया जाए।

इसके बाद RT-PCR टेस्ट सेम्पल लेने के बाद दो दो बूंद नींबू का रस दोनों नासिका छिद्रों में डालकर देश को कोरोना मुक्त करने मेंअपनी महती भूमि का जरूर निभाएं। जिसके लिए मैं जनहित के लिए किए गये निम्न कार्यों के लिए आभारी रहूंगा।

मैथिलीशरण गुप्त पूर्व डीजीपी म.प्र. एवं राष्ट्रीय अध्यक्ष अपराध मुक्त भारत मिशन म.प्र.

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें