चित्रकूट में जिला पंचायत अध्यक्ष का पद भाजपा की झोली मे, अशोक जाटव निर्विरोध काबिज


     उत्तम शुक्ला

चित्रकूट (स्वतंत्र प्रयाग) जिला पंचायत अध्यक्ष पद पर अन्य दल के किसी भी दावेदार के द्वारा नामांकन नहीं किये जाने से भाजपा के प्रत्याशी अशोक जाटव का निर्विरोध अध्यक्ष चुना जाना तय हो गया है। मात्र नामांकन पत्र की जांच की औपचारिकता ही शेष रह गयी है। अध्यक्ष पद का ताज भाजपा प्रत्याशी अशोक जाटव के सिर सज चुका है। इससे पहले वर्ष 2005 में दस्यु ददुवा के बेटे वीर सिंह पटेल सपा से निर्विरोध अध्यक्ष चुने गए थे। 2015 में सपा से ही शिवशंकर यादव की पत्नी मैना देवी निर्विरोध अध्यक्ष चुनी गई थी। निर्धारित तीन बजे तक भाजपा के अशोक जाटव के विरोध में किसी ने भी नामांकन पत्र दाखिल नहीं किया। जिसके बाद अनुसूचित जाति के लिए आरक्षित पंचायत की कुर्सी में अशोक जाटव निर्विरोध काबिज हुए माने गये। सबसे अधिक सदस्य जीतने का दावा करने वाली बहुजन समाज पार्टी इस चुनावी संग्राम मे पहले ही हाथ खड़े कर दिए थे। तय कर लिया था कि वह इस चुनाव में अपना प्रत्याशी ही नहीं उतारेगी। सपा भी अध्यक्ष पद की दौड़ मे पहले से ही बाहर थी। सुबह 11 बजे से दोपहर तीन बजे तक कलक्ट्रेट स्थित जिलाधिकारी न्यायालय कक्ष में नामांकन की प्रक्रिया होनी थी। भाजपा ने पूर्व जिलाध्यक्ष अशोक जाटव पर भरोसा जताया था। जिला पंचायत अध्यक्ष पद के लिए उन्हें अपना प्रत्याशी बनाया था। दोपहर 12 बजे अशोक जाटव लोनिवि राज्यमंत्री चन्द्रिकाप्रसाद उपाध्याय, सांसद आरके सिंह पटेल,विधायक आनंद शुक्ला, जिलाध्यक्ष चंद्रप्रकाश खरे के साथ नामांकन करने पहुंचे थे। उनके साथ आये समर्थक भी अति उत्साह मे दिख रहे थे। चित्रकूट जिलाधिकारी सुभ्रान्त कुमार शुक्ल, अपर जिलाधिकारी जीपी सिंह, प्रशिक्षु पीसीएस आकांक्षा सिंह की मौजूदगी में तीन सेट में भाजपा प्रत्याशी अशोक कुमार जाटव ने नामांकन पत्र दाखिल किया था। फिलहाल प्रशासन अब अशोक जाटव को जिला पंचायत अध्यक्ष पद पर निर्वाचित होने का प्रमाण पत्र देने की औपचारिकता ही करेगा।

टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

प्रधानमंत्री जी भारतीय आयुर्वेद चिकित्सा में,लेमन थेरेपी से कोरोना वायरस को मिल रही है मात,:-पूर्व डीजीपी मैथलीशरण गुप्त

Coronavirus से घबराएं नहीं,दो बूंद नींबू का रस लें, पिएं हल्दी युक्त गुनगुना पानी :-पूर्व डीजीपी मैथिलीशरण गुप्त

कल से बदल जाएंगे कई नियम , आम आदमी की जेब और घर के बजट पर इसका सीधा असर