मंगलवार, 8 जून 2021

चिकित्सक डॉ आर के कुशवाहा करोना काल में असहाय मरीजों का बने सहारा


कोरांव के सुकृत अस्पताल में मिल रही शहर जैसी अत्याधुनिक सुविधाएं

कोरांव/प्रयागराज(स्वतंत्र प्रयाग)कोरांव में स्थित सुकृत अस्पताल कोरोना काल में असहाय बेसहारा व जरूरतमंद मरीजों के लिए सहारा बन रहा है। अस्पताल के संचालक चिकित्सक आर के कुशवाहा ने जहां असहाय मरीजों का नि:शुल्क उपचार कर जिंदगी से ऊब रहे लोगों की जानें बचाई, वहीं सांस से पीड़ित कई ऐसे गंभीर रोगियों का उपचार कर उन्हें जीवनदान दिया जो शहर के बड़े अस्पतालों से थक हार कर लौट आए थे। स्वस्थ हो चुके मरीज व उनके परिजन सर्जन डॉ आर के कुशवाहा की प्रशंसा कर रहे हैं। रन्नो देवी पत्नी गेंदालाल उम्र 70 वर्ष निवासी भगतपुर कोरांव बताती हैं कि पिछले महीने मेरी अचानक तबीयत बिगड़ी और सांस लेने में गंभीर समस्या होने लगी। जिस पर शहर व स्थानीय अस्पतालों में उपचार हेतु भर्ती कराया किंतु आराम न मिलने पर परिजन चिकित्सक आरके कुशवाहा से सलाह ली और इनके उपचार से स्वस्थ हो गई हूं। रन्नो देवी के भतीजे बद्री प्रसाद ने बताया कि गरीबी के कारण भी अच्छे अस्पताल में उपचार नहीं करा पाया किंतु सर्जन डॉक्टर आरके कुशवाहा ने बहुत ही कम पैसे में उपचार कर स्वस्थ कर दिया। इसी प्रकार ललिता शर्मा पत्नी घनश्याम शर्मा निवासी सिकरो खेलाड़ी का पूरा ने बताया कि मैं नागपुर में रहती थी अचानक तबीयत बिगड़ने से ऑक्सीजन लेबल बेहद कम हो गया जिससे परिजन काफी घबराने लगे और नागपुर के कई अस्पतालों में उपचार कराने के बाद भी आराम नहीं मिला तो गांव आ गई। जहां एक महीने के बाद अब मैं चिकित्सक सर्जन डॉक्टर आरके कुशवाहा के उपचार से स्वस्थ हो गयी। बताया कि गरीब होने के कारण पैसे का अभाव था किंतु उपचार में पैसे की कमी आड़े नहीं आई। सफलतापूर्वक उपचार कर मेरी जिंदगी बचाई। कोरोना काल में सुकृत अस्पताल के चिकित्सकों ने मानवता की मिसाल पेश करते हुए कई असहाय निरीह व गरीब मरीजों की जानें बचाई। जिससे अस्पताल सुर्खियों में चल रहा है।

पति पत्नी दोनों हैं सर्जन

सुकृत अस्पताल कोरांव के संचालक डॉ आरके कुशवाहा खुद एमबीबीएस एम एस फिजियशन सर्जन है तो इनकी पत्नी डॉक्टर सोनी कुशवाहा भी एमबीबीएस एमएस सर्जन व स्त्री एवं प्रसूति रोग विशेषज्ञ हैं डॉ आरके कुशवाहा असाध्य से असाध्य रोगों का सफल उपचार कर जहां लोगों को जीवनदान दे रहे हैं वही कोरांव क्षेत्र प्रयागराज ही नहीं अपितु प्रदेश के कई जनपदों में सुर्खियां बटोर रहे हैं। सर्जन डॉक्टर आरके कुशवाहा ने कहा कि कोरोना काल के दौरान काफी लोगों की जान बचाई गई। करोना कॉल के उपचार में चिकित्सकों के मेहनत व योगदान की सराहना करते हुए उन्होंने कहा कि वैश्विक महामारी के दौरान चिकित्सक अपनी जान की परवाह न करते हुए लोगों का उपचार किया जो काबिले तारीफ है। कहा कि जिन मरीजों ने हिम्मत से काम लिया और उनके परिजन तत्काल उपचार के लिए भर्ती कराये और चिकित्सकों की सलाह मानी ऐसे मरीज काफी संख्या में ठीक होकर सुरक्षित हैं। उन्होंने कहा कि कोरांव क्षेत्र में भी अब शहर जैसी उपचार की अत्याधुनिक सुविधाएं मिल रही हैं।

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें