योग मनुष्य व प्रकृति के बीच एक सामंजस्य है- जिलाधिकारी

 

 चित्रकूट (स्वतंत्र प्रयाग) 7वें अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस के अवसर पर जिलाधिकारी शुभ्रान्त कुमार शुक्ल ने कैम्प कार्यालय के प्रांगण में विभिन्न प्रकार की योग क्रियाएं करते हुए जनपद के नागरिकों से अपील/संदेश देते हुए कहा कि योग भारत की प्राचीन परम्परा का एक अमूल्य उपहार है। नियमित योग करने से हमारा शरीर स्वस्थ रहता है, जिससे अनेकों बीमारी से बचाव होता है। वर्तमान में कोरोना संक्रमण से बचाव के लिए भी प्रतिदिन योग, व्यायाम करने से हमारे शरीर की प्रतिरोधक क्षमता बढ़ती हैं, जोकि हमें विभिन्न बीमारियों से बचाव करते हुए स्वस्थ रखती हैं। यह दिमाग और शरीर की एकता को भी बनाये रखता है। योग मनुष्य और प्रकृति के बीच सामंजस्य भी है। योग एवं व्यायाम विचार, संयम और पूर्ति प्रदान करने वाला है। अनेकों स्वास्थ्य लाभ और भलाई के लिए एक समग्र दृष्टिकोण को भी प्रदान करता हैं। आज की भागदौड़ भरी जिंदगी में मन शांति के लिए भी व्यायाम करना लाभदायक है।

टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

प्रधानमंत्री जी भारतीय आयुर्वेद चिकित्सा में,लेमन थेरेपी से कोरोना वायरस को मिल रही है मात,:-पूर्व डीजीपी मैथलीशरण गुप्त

Coronavirus से घबराएं नहीं,दो बूंद नींबू का रस लें, पिएं हल्दी युक्त गुनगुना पानी :-पूर्व डीजीपी मैथिलीशरण गुप्त

कल से बदल जाएंगे कई नियम , आम आदमी की जेब और घर के बजट पर इसका सीधा असर