जनपद न्यायाधीश एवं जिलाधिकारी ने जिला कारागार का किया औचक निरीक्षण

 


उत्तम शुक्ला                   

चित्रकूट (स्वतंत्र प्रयाग) जनपद न्यायाधीश रवींद्रनाथ दुबे तथा जिलाधिकारी सुभ्रान्त कुमार शुक्ल ने सर्वप्रथम मेटल डिटेक्शन, पोल मेटल डिटेक्शन तथा हवालात, कंट्रोल रूम देखा। उन्होंने जेल अधीक्षक से कहा कि जिस ड्राइंग के तहत यह बना है उसी के हिसाब से यहां कार्य हो। उन्होंने सैनिटाइजर मशीन को यथा स्थित पर लगाए जाने के लिए कहा। इसके बाद हाता नंबर 5 मे 21, 22 नंबर बैरक में गए तथा कैदियों से स्वास्थ्य, साफ -सफाई, पानी, शौचालय की व्यवस्था भोजन की व्यवस्था के बारे में जानकारी लिए। इसके पश्चात हाता नंबर 4 जिसमें 17, 18, 19, 20 भी देखें तथा जिलाधिकारी ने जेल अधीक्षक से कहा कि खाना कैदियों को बैरक में दे, बैरक के बाहर नहीं देना है। इसके पश्चात उन्होंने पृथकवास हाता नंबर 1 जिसमें छह, सात, आठ नौ, दस बैरक में गए, जिसमें 7 कैदी थे। इसके पश्चात उन्होंने हाता नंबर 3 तथा बैरक नंबर 9, 10, 11 12, 13, 14, 15, 16 में गए और निरीक्षण किए, जिसमें 251 कैदी मौजूद थे। उन्होंने विभिन्न बैरको आदि का निरीक्षण कर कैदियों से खानपान, स्वास्थ्य आदि के बारे में जानकारी की। जेल अधीक्षक से कहा कि साफ सफाई का विशेष ध्यान दिया जाए। बीच-बीच में जिला कारागार में सेनेटाइजेशन भी कराया जाए। सीसीटीवी कैमरे संचालित रहे। प्रकाश व्यवस्था सुचारू रूप से चलती रहे। गर्मी को देखते हुए पेयजल व्यवस्था दुरुस्त रहें। उन्होंने कहा कि जिला कारागार में खेल की भी व्यवस्था की जाए। योगा भी कराया जाए। सभी व्यवस्थाएं दुरुस्त करा ली जाए। कहीं पर कोई समस्या नहीं होनी चाहिए।  

                   निरीक्षण के दौरान सीजीएम, अपर पुलिस अधीक्षक शैलेंद्र कुमार राय, जेल अधीक्षक अशोक कुमार सागर, प्रभारी जेलर राम नरेश गौतम, उपकारापाल अरविंद कुमार, पीयूष पांडेय, प्रभारी चिकित्सा अधिकारी डॉ आशीष कंकोरिया, डॉ रामानुजम मौर्य आदि संबंधित अधिकारी तथा न्यायिक अधिकारी मौजूद रहे।

टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

प्रधानमंत्री जी भारतीय आयुर्वेद चिकित्सा में,लेमन थेरेपी से कोरोना वायरस को मिल रही है मात,:-पूर्व डीजीपी मैथलीशरण गुप्त

Coronavirus से घबराएं नहीं,दो बूंद नींबू का रस लें, पिएं हल्दी युक्त गुनगुना पानी :-पूर्व डीजीपी मैथिलीशरण गुप्त

कल से बदल जाएंगे कई नियम , आम आदमी की जेब और घर के बजट पर इसका सीधा असर