कोरांव क्षेत्र के पहाड़ी गांव में, नियमों की अनदेखी कर चलाए जा रहे क्रेशर प्लांट

 


क्रेशर प्लांट संचालकों को ग्रामीणों की कोई परवाह नहीं

हाई सुरंग ब्लास्ट से नजदीकी घरों में आ रही दरारें, ग्रामीणों में नाराजगी

कोरांव/प्रयागराज (स्वतंत्र प्रयाग) कोरांव तहसील क्षेत्र के पहाड़ी गांवों में नियमों की अनदेखी कर क्रेशर प्लांट चलाए जा रहे हैं। क्रेशर प्लांट संचालकों को ग्रामीणों की कोई परवाह नहीं है। क्रेशर प्लांटों से ग्रामीणों की क्या क्षति हो रही है उन्हें किस किस प्रकार की दिक्कतें हो रही हैं। इससे उनका कोई वास्ता सरोकार नहीं है।

 क्षेत्र के पसना व बेलहट गांव में क्रेशर प्लांटो पर हाई ब्लास्ट किए जा रहे हैं जिससे क्रेशर प्लांट के नजदीकी घरों में दरारें आ जा रही हैं। जिससे ग्रामीणों में अब क्रेशर प्लांटो को लेकर दहशत भी देखी जा रही है। ग्रामीणों का कहना है कि घर कब गिर जाएंगे कोई अंदाजा नहीं लगाया जा सकता है। क्षेत्र पंचायत सदस्य भभनपट्टी विवेक मिश्र क्रेशर प्लांटो की जांच कराते हुए नियमों की अनदेखी करने वाले संचालकों पर कार्रवाई की मांग की है।

क्षेत्र पंचायत सदस्य का कहना है कि क्रेशर प्लांट संचालकों को सिर्फ अपने आमदनी से मतलब है। मानव जीवन अथवा वन्य जीवो पर इसका क्या प्रभाव व असर पड़ रहा है इससे उनका कुछ लेना देना नहीं है। वह सिर्फ अपने मुनाफे के लिए नियमों को ताक पर रख हाई ब्लास्ट कर अंधाधुंध खनन कार्य कर रहे हैं। 

इतना ही नहीं क्षेत्र पंचायत सदस्य की बातों पर गौर करें तो क्रेशर प्लांट संचालक आरक्षित क्षेत्र के बाहर भी खनन कार्य करते हैं और अधिक मुनाफे के चक्कर में अत्यआधुनिक यंत्रों व मशीनों से ब्लास्ट करने का काम करते हैं। जिससे क्रेशर प्लांट के नजदीकी क्षेत्र में निवास कर रहे लोगों के लिए यह कार्य परेशानी का सबब बन गया है।

टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

प्रधानमंत्री जी भारतीय आयुर्वेद चिकित्सा में,लेमन थेरेपी से कोरोना वायरस को मिल रही है मात,:-पूर्व डीजीपी मैथलीशरण गुप्त

Coronavirus से घबराएं नहीं,दो बूंद नींबू का रस लें, पिएं हल्दी युक्त गुनगुना पानी :-पूर्व डीजीपी मैथिलीशरण गुप्त

कल से बदल जाएंगे कई नियम , आम आदमी की जेब और घर के बजट पर इसका सीधा असर