चार अप्रैल को जनपद कौशाम्बी की हुई थी स्थापना



विकास मिश्र

कौशांबी (स्वतंत्र प्रयाग)जनपद कौशाम्बी चार अप्रैल 1997 को इलाहाबाद से अलग होकर अलग जिला बनाया गया था । कौशाम्बी जनपद का मुख्यालय मंझनपुर में बनाया गया है। बौद्ध भूमि के रूप में प्रसिद्ध कौशांबी उत्तर प्रदेश राज्य का एक ज़िला है। कौशांबी, बुद्ध काल की परम प्रसिद्ध नगरी, जो वत्स देश की राजधानी थी। कौशाम्बी जनपद में मंझनपुर , सिराथू व चायल तीन तहसीलें व आठ ब्लॉक कड़ा , सिराथू , मूरतगंज , नेवादा , सरसवा , कौशाम्बी , चायल व मंझनपुर है । जिले में 14 थाने व सिराथू , अजुहा , मंझनपुर , करारी , भरवारी , दारानगर कड़ाधाम सहित आधा दर्जन से अधिक नगर पंचायत है । जनपद में अजुहा सबसे बड़ी मंडी के रूप में प्रसिद्ध है । जनपद में भरवारी व सिराथू रेलवे स्टेशन , सैनी बस स्टॉप भी है जो कि कौशांबी को बुद्ध सर्किट से जोड़ता है ।ऐतिहासिक दृष्टि से भी कौशांबी काफी महत्वपूर्ण है। यहाँ स्थित प्रमुख पर्यटन स्थलों में माँ शीतला माता मंदिर है जो शीतला धाम कड़ा में स्थित है साथ ही 51 शक्ति पीठों में शामिल है,यहां नित्य प्रति दिन भक्तो की भारी भीड़ दर्शनों एवं मंदिर के तट पर स्थित मां गंगा में स्नान के लिए दूर दराज से आते हैं । भैरव नाथ मंदिर,ऐतिहासिक राजा जय चंद का किला,बसंत मलूक दास का निवास स्थान, ख्वाजा कड़क शाह की मजार, प्रभाषगिरी और राम मंदिर, बौद्ध जैन मंदिर विशेष रूप से प्रसिद्ध है। इलाहाबाद के दक्षिण-पश्चिम से 63 किलोमीटर की दूरी पर स्थित कौशांबी को पहले कौशाम के नाम से जाना जाता था। यह बौद्ध व जैनों का पुराना केंद्र है। पहले यह जगह वत्स महाजनपद के राजा उदयन की राजधानी थी। माना जाता है कि बुद्ध छठें व नौवें वर्ष यहाँ घूमने के लिए आए थे।पुराणों के अनुसार हस्तिनापुर नरेश निचक्षु जो राजा परीक्षित के वंशज युधिष्ठिर से सातवीं पीढ़ी में हस्तिनापुर के गंगा द्वारा बहा दिए जाने पर अपनी राजधानी वत्स देश की कौशांबी नगरी में बनाई थी—अधिसीमकृष्णपुत्रो निचक्षुर्भविता नृपः यो गंगयाऽपह्नते हस्तिनापुरे कौशंव्यां निवत्स्यति। इसी वंश की 26वीं पीढ़ी में बुद्ध के समय में कौशांबी के राजा उदयन थे। गौतम बुद्ध के समय में कौशांबी अपने ऐश्वर्य के मध्याह्नाकाल में थी। जातक कथाओं तथा बौद्ध साहित्य में कौशांबी का वर्णन अनेक बार आया है। कालिदास, भास और क्षेमेन्द्र कौशांबी नरेश उदयन से संबंधित अनेक लोककथाओं की पूरी तरह से जानकारी थी।

टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

सरायइनायत में सराफा की दुकान से लाखों की लूट, दुकान खुलते ही चार पांच की संख्या में पहुंचे लुटेरों ने दिया घटना को अंजाम

जिलाधिकारी ने विकास खण्ड करछना, मेजा एवं कोरांव में आयोजित गरीब कल्याण मेले में पहुंचकर विभिन्न विभागों के द्वारा लगाये गये स्टाॅलों का किया अवलोकन

विभिन्न आयु वर्गो हेतु चयन ट्रायल 15 अगस्त को