खनन विभाग तथा आर टी ओ की मिलीभगत के चलते नही रुक पा रहा है ओवरलोड परिवहन

 


बारा: प्रयागराज:(स्वतंत्र प्रयाग): बता दे की माननीय न्ययालय तथा राज्य सरकार के रोक के वावजूद भी अवैध खनन तथा ओवरलोडिंग पर लगाम नही लग पा रही है बारा लालापुर तथा घूरपुर थाना क्षेत्र से प्रतिदिन सैकड़ो की तादात में ट्रकें अवैध खनन की गिट्टी पत्थर का ओवरलोड लाद कर खुलेआम निकल रही है कोई रोक नही है विभाग कभी इस ओर सब कुछ जानते हुए मूकदर्शक बना हुआ है।


 जिससे सरकार का प्रतिदिन लाखो रुपये का राजस्व का नुकसान हो रहा है आर टी ओ विभाग तथा पुलिस उन्ही ट्रको को चेक करते है या बंद करते है जिनकी इंट्री नही रहती खनन माफिया ओवरलोड ट्रको को निकालने के लिए शाम होते ही सेटिंग बैठाने लगते है।


पासर रॉड पर बड़ी बड़ी लग्जरी गाडियो से जगह जगह खड़े रहते है जिसमे पुलिस का भी इन्हें सहयोग मिलता है अगर पुलिस चाहा ले तो क्या मजाल की एक भी गाड़ी अवैध खनन की ओवरलोड निकल पाए किन्तु ऐसा होता नही। 


अवैध खनन की शिकायत मुख्यमंत्री के जनसुनवाई पोर्टल पर की गई किन्तु खनन निरीक्षक टीम के साथ एक दिन दौड़ा करके अपनी खानापूर्ति करके चले जाते है चुप चाप बैठ जाते है।


 जबकि जिस दिन चेकिंग की जाती है काफी तादात में ओवरलोड अवैध खनन की ट्रकें मिल जाती है उसी पर कार्रवाई कर देते है जबकि पुलिस भी अगर चेकिंग करे तो सरकार का जो लाखो रुपये प्रतिदिन राजस्व का नुकसान हो रहा है रुक सकता है।


 किंतु पुलिस भी उन्ही ट्रको को रोकती है जिससे उनको महीने में इंट्री नही मिलती ठीक यही स्थिति आर टी ओ की भी है जो इंट्री नही करते उन्हें पकड़ कर बन्द करते है जिसकी इंट्री नही होती उसे पुलिस भी अधिकारी को बुला कर चालान कर देती है।


अब सवाल यह खड़ा होता है कि जब माननीय न्यायालय तथा राज्य सरकार का जो आदेश है पालन नही हो रहा है तो ऐसे में जो छोटे वर्ग के ट्रक मालिक है उनको रोजी रोटी की भी समस्या खड़ी हो गई है कि ट्रक चालकों ने आरोप लगाया है कि ये जो ट्रक ओवरलोडिंग अवैध खनन करके आसानी से चली जा रही है इनको रोक जाय ।


 ट्रक मालिको तथा ट्रक चालकों के आरोप है कि जो गाड़ी अवैध खनन ओवरलोड रहती है चोरी का माल कम दाम में बेंच देते है जो सही चल रहे है एक नंबर में है उनको कुछ नही बच पा रहा है जिससे उनके समक्ष रोजी रोटी की समस्या उत्पन्न हो गई है ट्रक की क़िस्त नही जमा हो पा रही है । 


एक ट्रक मालिक ने भावुक हो कर बताया की मैंने किसी तरह ट्रक लिया था खुद दृवेरी करता हू घर के सभी जेवर बेंच कर क़िस्त जमा किया फिर भी क़िस्त टूट गयी है मात्र ओवरलोड अवैध खनन बन्द हो जाय तो कम से कम रोजी रोटी की समस्या तो नही रहेगी। 


अब बात जो भी हो यह तो पुलिस विभाग व अधिकारी ही जाने किन्तु भारी पैमाने पर अवैध खनन कर के महीने में करोड़ो रूपये राजस्व की खुलेआम चोरी की जा रही है साथ ही साथ सरकार की जो अवैध खनन रोकने के लिए तरह तरह के नियम बनाये गए है उस पर पानी फिर गया है, साथ ही साथ माननीय न्यायालय की खुलेआम अवहेलना हो रही है।