बारूद फैक्ट्री में हुआ विस्फोट, तीन मजदूरो की गई जान


 कौशांबी,(स्वतंत्र प्रयाग), भरवारी कस्बे में बारूद फैक्ट्री में विस्फोट के बाद ,तीन मजदूरों की मौत के मामले में अग्निशमन विभाग के अधिकारियों की कारगुजारी, सवालों के घेरे में है।


 


बीच आबादी में बारूद बेचने का लाइसेंस नहीं दिया जा सकता, तो फिर घनी आबादी के बीच बारूद फैक्ट्री संचालन का  लाइसेंस कैसे दे दिया गया है।


लाइसेंस देने वाले अधिकारी सवालों के घेरे में है,घनी आबादी के बीच बारूद फैक्ट्री का लाइसेंस  नही दिया जा सकता आबादी के बाहर लाइसेंस देने में अग्निशमन विभाग से अनापत्ति प्रमाण पत्र मांगा जाता है, आखिर अग्निशमन विभाग के अधिकारियों ने बारूद फैक्ट्री संचालन का आबादी के पक्के घर मे अनापत्ति प्रमाण पत्र  कैसे जारी कर दिया गया, यह पूरे विभाग को कटघरे में खड़ा कर रहा है ।
और इस मामले में जांच हुई तो, अग्निशमन विभाग के जिले से लेकर मंडल स्तर के अधिकारियों का जेल जाने से कोई रोक नही  सकता है।


लेकिन क्या योगी सरकार मौत से खेलने वाले इन भ्रष्ट अधिकारियों के कारनामों को संज्ञान लेकर, उच्च स्तरीय जांच कराएगी? अब बात जो भी जो यह तो अग्निशमन विभाग के अधिकारी ही जाने किन्तु इसकी निष्पक्ष जांच मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ करा लें तो सब दूध का दूध पानी का पानी हो जायेगा।


टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

प्रधानमंत्री जी भारतीय आयुर्वेद चिकित्सा में,लेमन थेरेपी से कोरोना वायरस को मिल रही है मात,:-पूर्व डीजीपी मैथलीशरण गुप्त

Coronavirus से घबराएं नहीं,दो बूंद नींबू का रस लें, पिएं हल्दी युक्त गुनगुना पानी :-पूर्व डीजीपी मैथिलीशरण गुप्त

कल से बदल जाएंगे कई नियम , आम आदमी की जेब और घर के बजट पर इसका सीधा असर