औरंगाबाद ट्रैन हादसे में जान गवाने बाले भाई बहनों के मौत से बहुत स्तब्ध हूँ :  राहुलगांधी



नई दिल्ली,(स्वतंत्र प्रयाग) देशभर मे चल रहे लॉकडाउन के बीच महाराष्ट्र से अपने घर बिहार, यूपी आने वाले मजदूर लगातार पैदल चल रहे हैं, जिसमे से आज एक दर्जन से ज्यादा मजदूरों की मालगाड़ी से कुचलकर मौत हो गई जो बहुत पहले घर जाने के लिए निकल चुके हैं, वो रास्ते मे हैं, जिनमें से कुछ मजदूर सड़क के जरिए तो कुछ ट्रेन के ट्रक को पकड़ के आगे बढ़ते हुए चलते नजर आ रहे हैं, वहीं इसी वक्त महाराष्ट्र के औरंगाबाद जिले में एक दर्दनाक घटना भी सामने आई  जिसमे एक दर्जन से ज्यादा पैदल चल रहे मजदूरों की जान एक मालगाड़ी से कट कर चली गई  वहीं कांग्रेस अदध्यक्ष राहुल गांधी ने बहुत ही भावुक ट्वीट करते हूए उन्हे शांति मिलने की कामना की है।


वहीं उन्होने इसकी जिम्मेदार सरकार को बताया है उनका कहना है सरकार की अव्यवस्था की वजह से ऐसा हुआ  राहुल गांधी ने ट्वीट मे कहा कि, मैं इस हादसे मे जाने गँवाने वाले भाई बहनो कि मौत से बहुत स्तब्ध हूँ।


"हमें अपने राष्ट्र निर्माण कर्ताओं के साथ किए जा रहे व्यवहार पर शर्म आनी चाहिए, मारे गए लोगों के परिवार के प्रति संवेदना व्यक्त करता हूँ और जो कुछ गंभीर घायल हैं, उनके जल्द स्वस्थ होने कि कामना करता हूँ " राहुल गांधी ने मजदूरों को बताया राष्ट्रनिर्माण करने वाला, उनके साथ घटना से मन बहुत अशांत है।


आपको बताते चलें कि, इस हादसे में अभी तक मिली सूचना के अनुसार 15 मजदूरों की मौत हो गई है, वही औरंगाबाद जालना रेलवे लाइन पर यह हादसा सुबह 6:00 बजे के करीब हुआ है, जब सभी मजदूर आराम कर रहे थे और रात भर पैदल चलने की वजह से नींद में थे।



ऐसा बताया जा रहा है कि सुबह नींद में होने की वजह से मजदूर ट्रेन की आवाज सुननी सके फिलहाल इसकी जांच चल रही है मजदूरों की डेड बॉडी पोस्टमार्टम के लिए भेजी जा चुकी है दक्षिण पश्चिम रेलवे लाइन के अधिकारी मौके पर पहुंच रहे हैं  मजदूरों के पास से मिले जरूरी कागजों के आधार पर उनकी पहचान की जा रही है।


टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

प्रधानमंत्री जी भारतीय आयुर्वेद चिकित्सा में,लेमन थेरेपी से कोरोना वायरस को मिल रही है मात,:-पूर्व डीजीपी मैथलीशरण गुप्त

Coronavirus से घबराएं नहीं,दो बूंद नींबू का रस लें, पिएं हल्दी युक्त गुनगुना पानी :-पूर्व डीजीपी मैथिलीशरण गुप्त

कल से बदल जाएंगे कई नियम , आम आदमी की जेब और घर के बजट पर इसका सीधा असर