22 मई से चलेंगी ट्रेने  , वेटिंग टिकट की लिमिट रहेगी तय , राजधानी तथा शताब्दी को लेकर आवश्यक सूचना



नई दिल्ली,(स्वतंत्र प्रयाग) भारतीय रेलवे ने दिल्ली से आने और जाने वाली 30 राजधानी स्पेशल ट्रेनों में अब सीमित प्रतीक्षा सूची (वेटिंग टिकट) को भी मंजूरी दे दी है  कोरोना और लॉकडाउन के कारण विभिन्न स्थानों पर फंसे लोगों के लिए रेलवे ने मंगलवार से 15 जोड़ी एसी स्पेशल ट्रेनें शुरू की हैं अब तक इनमें केवल कन्फर्म टिकट बुक हो रहा था।


रेलवे बोर्ड ने बुधवार को अपने ज़ोन को निर्देश भेज दिए हैं जिसमें उसने कहा है कि राजधानी स्पेशल ट्रेनों और अन्य अधिसूचित ट्रेनों में अब थर्ड एसी के लिए 100, सेकेंड एसी के लिए 50, स्लीपर के लिए 200 तक प्रतीक्षा सूची होगी एसी चेयर कार के लिए 100 और फ़र्स्ट एसी और एग्ज़िक्यूटिव क्लास के लिए प्रत्येक में 20-20 की वेटिंग होगी   यह बदलाव 22 मई से चलने वाली ट्रेनों के लिए लागू होंगे, जिसके लिए बुकिंग 15 मई को खुलेंगी हालांकि आरएसी कोटे में फिलहाल टिकट नहीं दिए जाएंगे।


रेलवे प्रवक्ता ने बताया कि प्रतीक्षा सूची का निर्णय अंतिम समय में यात्रियों द्वारा कुछ टिकटों को रद्द करने के मद्देनजर उठाया है ताकि इसका लाभ अन्य जरूरतमंद यात्रियों को मिल सके  आपको बताते चलें कि, स्पेशल ट्रेनों का टिकट यात्रा शुरू होने से 24 घण्टे पहले तक रद्द कराया जा सकता था, इसके लिए रेलवे 50 प्रतिशत राशि वापस करता है  अब टिकट रद्द कराने पर लॉकडाउन के पहले के सामान्य तौर पर लागू नियमानुसार ही धनराशि लौटाई जाएगी।



अभी तक लॉक डाउन के बीच शुरू की गई राजधानी स्पेशल गाड़ियों में आईआरसीटीसी के माध्यम से केवल एक सप्ताह तक की अग्रिम बुकिंग की ही सुविधा उपलब्ध है   अभी नई दिल्ली से डिब्रूगढ़, अगरतला, हावड़ा, पटना, बिलासपुर, रांची, भुवनेश्वर, सिकंदराबाद, बेंगलुरु, चेन्नई, तिरुवनंतपुरम, मडगांव, मुंबई सेंट्रल, अहमदाबाद और जम्मू-तवी के बीच 15 जोड़ी अर्थात 30 राजधानी विशेष रेलगाड़ियां चलाई जा रही हैं।


टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

प्रधानमंत्री जी भारतीय आयुर्वेद चिकित्सा में,लेमन थेरेपी से कोरोना वायरस को मिल रही है मात,:-पूर्व डीजीपी मैथलीशरण गुप्त

Coronavirus से घबराएं नहीं,दो बूंद नींबू का रस लें, पिएं हल्दी युक्त गुनगुना पानी :-पूर्व डीजीपी मैथिलीशरण गुप्त

कल से बदल जाएंगे कई नियम , आम आदमी की जेब और घर के बजट पर इसका सीधा असर