विक्षिप्त ने अपने बड़े भाई की लाइसेंसी बंदूक से गोली मारकर की आत्महत्या


लालापुर/ प्रयागराज,(स्वतंत्र प्रयाग), लालापुर थाना अंतर्गत अनन्त कुमार द्विवेदी उर्फ राम  पुत्र  रामसुख  उम्र 20 वर्ष निवासी अमिलिया तरहार रात में  12 बजे के लगभग सारे लोग घर पर सो रहे थे।
 


उसी समय अनन्त कुमार  जागा और बगल के कमरे मे अनन्त की माता शान्ति देवी सो रही थी शान्ति देवी के गले से कमरे की चाभी निकाला और कमरा खोल कर दो नली बन्दूक निकालकर विक्षिप्त ने पेट में गोली मार ली।
 


जब गोली की आवाज  सुनाई  पड़ी तो बगल में सोई माँ शान्ति देवी बहन और बच्चे  ने सोर मचाना शुरु कर दिया।
पीछे बगल के कमरे में बड़ा भाई भोलानाथ अपनी चक्की पर सो रहा था आवाज  सुनकर भागा तो देखा कि अनन्त कुमार खून से लथपथ  तड़प रहा था।


भोला ने तुरंत लालापुर पुलिस को फोन किया लालापुर थाना अध्यक्ष संतोष कुमार सिंह तुरन्त मौके पर पहुँचे और इलाज के लिए प्रयागराज मेडिकल ले गये और डॉक्टरों ने अनन्त कुमार को मृत घोषित कर दिया।


अनन्त अपने तीन भाइयों मे सबसे छोटा था बड़ा भाई भोलानाथ 40 वर्ष आशुतोष 35 वर्ष और अनन्त 20  वर्ष का था अनन्त का मानसिक दिमाग विक्षिप्त चल रहा था 2 वर्ष से उसका इलाज एस. पी. एस. चौहान प्रयागराज के यहा चल रहा था।


 बड़े भाई भोलानाथ बड़ी लगन के साथ अनन्त की दवा करा रहे थे मानसिक संतुलन ठीक न होने के कारण उसने गोली मार ली बड़े भाई भोलेनाथ की पत्नी 7 वर्ष पहले मर  हो चुकी है भोला के 2 बच्चे हैं माँ शान्ति देवी और घर के सारे लोगों का रो रो के बुरा हाल है।


 थाना अध्यक्ष संतोष कुमार सिंह मौके से दो नली  लाइसेंसी बन्दूक उठा ले गये और शव को पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया गया है मृतक के घर पर सी.ओ. बारा 
रामप्रकाश दोहरे  तथा थाना अध्यक्ष लालापुर संतोष कुमार सिंह उप निरीक्षक जय चंद गिरी उमेश यदुवंसी जाँच निरीक्षण में लगे हुए हैं। आखिर अनन्त कुमार ने किस वजह से  खुद को गोली मारी।