राहुल गांधी की आर बी आई के पूर्व गवर्नर से हुई बात , कहा भारत मे गरीबो के सहायता के लिए चाहिए 65 हजार करोड़



नई दिल्ली,(स्वतंत्र प्रयाग)देशभर मे कोरोना संकट इस वक़्त मुसीबत बना हुआ है, जिससे सरकार के साथ साथ हर तबका परेशान है, वहीं कांग्रेस नेता राहुल गांधी कोरोना महामारी पर अलग-अलग फील्ड के देश-विदेश के एक्सपर्ट से चर्चा करके इसके सुझाव केंद्र सरकार को दे रहे हैं।


  कोरोना पर राहुल गांधी की एक्सपर्ट्स से डिस्कशन सीरीज की जानकारी कांग्रेस प्रवक्ता रणदीप सिंह सुरजेवाला ने बुधवार को ट्विटर पर दी थी  जिसकी आज से शुरुआत कर दी गई है।


आरबीआई के पूर्व गवर्नर रघुराम राजन के साथ बातचीत से इस सीरीज की शुरुआत की गई है  राहुल गांधी ने रघुराम राजन से पूछा कि, गरीबों की मदद में कितना खर्च आएगा? राजन ने जवाब दिया कि।


इसके लिए 65 हजार करोड़ रुपए की जरूरत है  यह रकम देश की जीडीपी के मुकाबले कुछ भी नहीं है गरीबों को बचाने के लिए खर्च करना चाहिए क्यूंकी देश के नागरिक रहेंगे तभी देश आगे बढ़ेगा।


 


इकोनॉमी पर कोरोना के असर को लेकर राजन ने कहा कि भारत इस मौके का फायदा उठा सकता है  इंडस्ट्री और सप्लाई चेन में खास जगह बनाने का मौका है  राजन ने कहा कि लॉकडाउन लंबे समय तक जारी रखना संभव नहीं है वहीं राहुल गांधी के साथ रघुराम राजन की बातचीत के दौरान उन्होने देश मे कोरोना के बाद सबसे बड़ा आर्थिक संकट की बात कही।


जिसकी तैयारी पहले से ही करनी होगी  आपको बताते चलें कि देश भर मे लॉक डाउन  3 मई तक किया गया है, जिसे बढ़ाने के लिए भी सरकार सहमत है, सरकार इसे मई तक बढ़ाने का मन बना चुकी है, वहीं दर्जनों राज्य ऐसे हैं जिन्होने लॉक डाउन को 10 जून तक बढ़ाने कि घोषणा पहले ही कर दी है, जिसमे प्रमुख तौर पर महाराष्ट्र, केरल, तमिलनाडू, तेलंगाना पंजाब, प्रमुख तौर पर हैं।


टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

प्रधानमंत्री जी भारतीय आयुर्वेद चिकित्सा में,लेमन थेरेपी से कोरोना वायरस को मिल रही है मात,:-पूर्व डीजीपी मैथलीशरण गुप्त

Coronavirus से घबराएं नहीं,दो बूंद नींबू का रस लें, पिएं हल्दी युक्त गुनगुना पानी :-पूर्व डीजीपी मैथिलीशरण गुप्त

कल से बदल जाएंगे कई नियम , आम आदमी की जेब और घर के बजट पर इसका सीधा असर