महराजगंज में कोरोना संक्रमण की पुस्टि होने के बाद, जमातियों के चार गांव किये गए सील, तब्लीगी मरकज में शामिल  होकर लौटे थे



गोरखपुर,(स्वतंत्र प्रयाग) दिल्ली के निजामुद्दीन के तब्लीगी मरकज में शामिल होकर घर लौटे महराजगंज जिले के कोल्हुई व पुरंदरपुर क्षेत्र के 21 लोगों में से छह के कोरोना से संक्रमित होने की पुष्टि के बाद प्रशासन ने सतर्कता बढ़ाते हुए जमातियों के चार गांवों को सील कर दिया है।


साथ ही जिला महिला अस्पताल के क्वारंटाइन वार्ड में भर्ती इन जमातियों को शनिवार की भोर में निकाल कर सीएचसी जगदौर में बनाए गए विशेष आइसोलेशन वार्ड में शिफ्ट कर दिया गया है। जिला प्रशासन का कहना है कि संबंधित ग्रामों के तीन किलोमीटर के परिक्षेत्र में आवागमन पूरी तरह से प्रतिबंधित कर दिया गया है। यदि किसी ने गांव से निकलने की कोशिश की सख्‍त कार्रवाई की जाएगी। 


एक अप्रैल को तब्लीगी मरकज से लौटे कोल्हुई थाना क्षेत्र के कम्हरिया बुजुर्ग, सोनपिपरी खुर्द, एकसड़वा , बड़हरा इंद्रदत्त तथा पुरंदरपुर थाना क्षेत्र के विशुनपुर फुलवरिया व विशुनपुर कुर्थियां निवासी कुल 21 लोगों को स्वास्थ्य विभाग की टीम ने महिला अस्पताल के क्वारंटाइन वार्ड में भर्ती कराया था। चिकित्सकों की निगरानी में गुरुवार को सभी की जांच के लिए बलगम का नमूना लिया गया। जिसमें छह लोग कोरोना से पाजिटिव पाए गए हैं, जबकि चार अन्य की रिपोर्ट अत्यंत संदिग्ध है।


 


जांच में अत्‍यंत संदिग्‍ध मिलने के बाद स्‍वास्‍थ्‍य महकमा सजग हो गया है। स्‍वास्‍थ्‍य विभाग का कहना है कि इन संदिग्‍धों की दोबारा जांच कराई जाएगी।


जिलाधिकारी डा. उज्ज्वल कुमार व  पुलिस अधीक्षक रोहित सिंह सजवान ने कहा कि कोरोना से कोई अन्य व्यक्ति प्रभावित न हो, इसके मद्देनजर कोरोना पाजिटिव पाए गए लोगों के संबंधित गांव बड़हरा, कम्हरिया बुजुर्ग तथा पुरंदरपुर थाना क्षेत्र विशुनपुर फुलवरिया और विशुन कुर्थिया में पूरी तरह से लाकडाउन करते हुए सील कर दिया गया है। उक्त ग्रामों के तीन किलोमीटर के परिक्षेत्र में आवागमन में पाबंदी लगा दी गई है।


दिल्ली के तब्लीगी मरकज में शामिल होकर बीते 21 अप्रैल को कामाख्या एक्सप्रेस से घर आए छह  लोगों की कोरोना रिपोर्ट पॉजिटिव आने के बाद प्रशासन ने उनकी ट्रवेल हिस्ट्री की पड़ताल शुरू कर दी है ।


सभी लोग बीते 18 व 19 मार्च को दिल्ली के  निजामुद्दीन में आयोजित मरकज में शामिल होने के बाद कामाख्या एक्सप्रेस पकड़कर गोरखपुर पहुंचे थे। ऐसे में अब संभावना जताई जा रही है कि इन लोगों द्वारा ट्रेन में यात्रियों को भी संक्रमित किया गया होगा।  


जिलाधिकारी डॉ उज्जवल कुमार ने कहा कि इसकी रिपोर्ट शासन को भेज दी गई है । शासन द्वारा रेलवे बोर्ड को तबलीगी मरकज में शामिल लोगों के यात्रा विवरण के बारे में  अवगत कराया जाएगा।


टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

प्रधानमंत्री जी भारतीय आयुर्वेद चिकित्सा में,लेमन थेरेपी से कोरोना वायरस को मिल रही है मात,:-पूर्व डीजीपी मैथलीशरण गुप्त

Coronavirus से घबराएं नहीं,दो बूंद नींबू का रस लें, पिएं हल्दी युक्त गुनगुना पानी :-पूर्व डीजीपी मैथिलीशरण गुप्त

कल से बदल जाएंगे कई नियम , आम आदमी की जेब और घर के बजट पर इसका सीधा असर