लॉकडाउन के चलते दूल्हे ने दुल्हन लाने के लिए 100 किलोमीटर चलाई साइकिल , फिर मंदिर में रचाई शादी



हमीरपुर, (स्वतंत्र प्रयाग), कई लोगों की शादी लॉकडाउन के कारण रद्द या फिर टाल दी गयी है।  किसी भी समारोह के आयोजन पर सोशल डिस्टेंसिंग के चलते पाबंदी लगा गयी है,  इसी बीच कई ऐसे भी लोग हैं जो शादी तय तारीख पर टलने के बाद भी बिना  बैंड बाजा और बारात के  शादी कर रहे हैं। हाल ही में  उत्तर प्रदेश के हमीरपुर में जिले में  नया मामला सामने आया है,  यहां पर दूल्हा और दुल्हन अकेले ही शादी रचाने चले गए।
 


दूल्हा  कलकू प्रजापति ने साइकल से लगभग 100 किलोमीटर का सफर तय किया दुल्हन रिंकी को अपने घर लाने के लिए। बीते सोमवार की सुबह कलकू ने अपनी यात्रा शुरू की और अपने घर शादी करके दुल्हन को उसी शाम को ले कर आ गया।


मंदिर में की शादी


कलकू हमीरपुर जिले के पौथिया गांव के रहने वाले हैं और सोमवार 27 अप्रैल को उनकी शादी होनी थी।
 महोबा जिले के पुनिया गांव की रहने वाली रिंक के घर कलकू की बारात जानी थी। लगभग 50 किलीमीटर की दूरी कलकू और रिंकी के गांव के बीच में है। सारी तैयारी शादी की हो गयी थी। लेकिन शादी की टालने की नौबत लॉकडाउन की वजह से आ गयी। 


बता दें कि शादी टालने के मूड में कलकू नहीं था  जिसके बाद अकेले ही उसने शादी करने का फैसला किया।
 गांव के मंदिर में शादी कलकू और रिंकी ने रचाई और फिर हमीरपुर के लिए दोनों साइकिल से ही  रवाना हो गए। उनकी शादी पर शामिल कुछ ही लोग हुए।  


सपने में भी ऐसी शादी नहीं सोची


बता दें कि महोबा जाने के लिए पुलिस से कलकू ने बाइक की परमीशन मांगी लेकिन वह नहीं मिली। उसके बाद साइकिल से जाने का फैसला उसने लिया जिससे कोई भी उसे रास्ते में नहीं रोकेगा। हाईवे पर सन्नाटा लॉकडाउन के कारण था और पुनिया गांव साइिकल चलाकर बिना रुके कलकू सीधे पहुंच गया। 


एक वेब पोर्टल से बात करते हुए कलकू ने कहा कि, पुलिस ने मुझे बाइक से जाने की अनुमति देने से इनकार कर दिया। 
इसके बाद मेरे दोस्तों ने साइकिल पर यात्रा करने दुल्हन को लाने का सुझाव दिया।कलकू ने आगे बताया कि, हम दोनों ने अपनी शादी को यादगार  बनाने का सपना देखा था,  लेकिन हमारे शादी ऐसे होगी इसकी कल्पना भी नहीं की थी।