कोटेदार के खिलाफ ग्रामीणों ने घटतौली की किया शिकायत, अधिकारियो ने जांच कर वितरित कराया चावल


लालापुर/प्रयागराज, (स्वतंत्र प्रयाग), जहाँ एक तरफ सरकार तथा समाजसेवी वर्ग गरीबो असहायों को लॉकडाउन में खाद्यान्न वितरण कर रहे है। वही इमिलिया के कोटेदार ने निःशुल्क चावल के वितरण में घटतौली कर लोगो को मुफ्त चावल वितरित कर रहा था लोगो को चावल वजन में कम लगा  तो लोगो ने प्रधान से इसकी शिकायत कि।
 


प्रधान ने इलेक्ट्रॉनिक कांटे से लोगो का चावल वजन किये तो बात सही निकली जिसकी शिकायत प्रधान श्रीमती निर्मला देवी ने जिलाधिकारी से किया जिलाधिकारी ने तहसीलदार बारा को इसकी जांच करने के लिए भेजा।    
     


  प्राप्त विवरण के अनुसार बुधबार के दिन सरकार द्वारा लोगो को प्रति यूनिट पांच किलो चावल मुफ्त में वितरित किया जा रहा था कोटेदार लोगो को चावल यूनिट के हिसाब से दिखावटी तो सही बाँट रहा था।
 किंतु तौल में कम दे रहा था लोगो को लगा कि चावल कम है शंका  होने पर चावल को लोगो ने तौल किया तो चावल कम निकला।
 


जिसकी लोगो ने शिकायत ग्राम प्रधान से किया प्रधान ने वजन कराया तो घटतौली की बात सही निकली प्रधान ने इसकी शिकायत जिलाधिकारी से कर दिया जिलाधिकारी ने तुरंत तहसीलदार बारा तथा माप बाट अधिकारी को मौके पर भेजा तथा ग्रामीणों को सुचारू रूप से चावल वितरण का आदेश दिया।


तहसीलदार बारा मौके पर पहुच कर जांच किया माप बाट अधिकारी ने इलेक्ट्रॉनिक वजन मशीन को चेक किया तो कमी पाई गई इसके बाद लालापुर थाने के यस आई उमेश यादव तथा ग्राम प्रधान मास्टर विजयधर के मौजूदगी में लिखित कार्रवाई की गई। सभी अधिकारियो ने लोगो को जितना कम चावल वजन में दिया था उसे पूरा करने का आदेश दिया।   
           


 अब सवाल   यही उठता है कि कोटेदार मनमानी करते है आपूर्ति विभाग इस पर कार्रवाई क्यों नही करता है यही नही यह तो बेनजी है इस समय लोगो को खाने के लाले पड़े है कोटेदारों के पास जरा भी मानवता नाम की चीज नही है इस समय जब कि पूरा देश महामारी से जूझ रहा है कोटेदार मनमानी पर तुले हुए है।


टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

प्रधानमंत्री जी भारतीय आयुर्वेद चिकित्सा में,लेमन थेरेपी से कोरोना वायरस को मिल रही है मात,:-पूर्व डीजीपी मैथलीशरण गुप्त

Coronavirus से घबराएं नहीं,दो बूंद नींबू का रस लें, पिएं हल्दी युक्त गुनगुना पानी :-पूर्व डीजीपी मैथिलीशरण गुप्त

कल से बदल जाएंगे कई नियम , आम आदमी की जेब और घर के बजट पर इसका सीधा असर