केंद्र सरकार का अहम फैसला, अगर डॉक्टरों पर किया हमला तो सात साल की सजा तथा सात लाख रुपये होगा जुर्माना



नई दिल्ली,(स्वतंत्र प्रयाग)कोरोना वायरस महामारी से निपटने के लिए देश में जंग जारी है वहीं कोरोना मरीजों की देखभाल के लिए डॉक्टर रात-दिन उनकी सेवा में जुटे हैं  ऐसे में फिर भी डॉक्टरों के साथ दुर्व्यवहार किया जाता है  देशभर में डॉक्टरों के खिलाफ इस तरह की हो रही घटनाओं पर मोदी सरकार सख्त हो गई है।


बुधवार को प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी की अगुवाई में केंद्रीय कैबिनेट की बैठक हुई, जिसमें कोरोना वायरस, लॉकडाउन समेत देश के मौजूदा हालात पर चर्चा की गई  स्वास्थ्यकर्मियों पर लगातार हो रहे हमले पर अब मोदी सरकार ने कड़ा फैसला लिया है।


पीएम मोदी की अगुवाई में आज हुई केंद्रीय कैबिनेट की बैठक में एक अध्यादेश पास किया गया है, जिसके बाद अब स्वास्थ्यकर्मियों पर हमला करने वालों के खिलाफ कड़ा एक्शन लिया जाएगा  केंद्रीय मंत्री प्रकाश जावड़ेकर ने कहा कि डॉक्टरों के खिलाफ हमले की जानकारी आ रही है, सरकार इन्हें बर्दाश्त नहीं करेगी।


अब अगर किसी ने डॉक्टरों पर हमला किया तो 3 महीने से 5 साल तक की जेल होगी और गंभीर हमला करने पर-चोट आदि आने पर 7 साल की जेल और जुर्माना 7 लाख तक का होगा  साथ ही प्रकाश जावड़ेकर ने कहा कि मेडिकलकर्मियों पर हमला करने वालों को जमानत नहीं मिलेगी और 30 दिन के अंदर इसकी जांच पूरी होगी  इतना ही नहीं 1 साल के अंदर फैसला लाया जाएगा।


जबकि 3 महीने से 5 साल तक की सजा हो सकती है गंभीर मामलों में 50 हजार से 2 लाख तक का जुर्माना भी लगाया जाएगा अध्यादेश के मुताबिक अगर किसी ने स्वास्थ्यकर्मी की गाड़ी पर हमला किया तो मार्केट वैल्यू से दोगुना ज्यादा भरपाई की जाएगी बता दें कि आज ही गृहमंत्री अमित साह ने डॉक्टरों से बात की थी और भरोसा दिलाया था कि उनके साथ हो रहे दुर्व्यवहार का जल्द ही समाधान निकाला जाएगा।


टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

प्रधानमंत्री जी भारतीय आयुर्वेद चिकित्सा में,लेमन थेरेपी से कोरोना वायरस को मिल रही है मात,:-पूर्व डीजीपी मैथलीशरण गुप्त

Coronavirus से घबराएं नहीं,दो बूंद नींबू का रस लें, पिएं हल्दी युक्त गुनगुना पानी :-पूर्व डीजीपी मैथिलीशरण गुप्त

कल से बदल जाएंगे कई नियम , आम आदमी की जेब और घर के बजट पर इसका सीधा असर