13 अप्रैल को खालसा स्थापना दिवस घर पर ही मनाए : पतविन्दर सिंह


प्रयागराज,(स्वतंत्र प्रयाग), समाजसेवी सरदार पतविंदर सिंह ने बताया कि खालसा पंथ की स्थापना श्री गुरु गोबिन्द सिंह जी ने १६९९ को बैसाखी वाले दिन आनंदपुर साहिब में की।


इस दिन उन्होंने सर्वप्रथम पाँच प्यारों को अमृतपान करवा कर खालसा बनाया तथा तत्पश्चात् उन पाँच प्यारों के हाथों से स्वयं भी अमृतपान किया जिसका उद्देश्य राष्ट्रहित में जुल्मों से लड़ना, जबरन धर्म परिवर्तन को रोकना एवं सम्पूर्ण जगत का कल्याण करना था । 


समाजसेवी सरदार पतविंदर सिंह ने आगे कहा कि खालसा पंथ के मार्गदर्शन पर चलते हुए 13 अप्रैल 20 20 खालसा साजना दिवस पर समूह साध संगत से आग्रह है कि कोरोना वायरस के कारण आई दैविक आपदा पर अपने हेड जत्थेदार अमृतसर और प्रशासन का सहयोग करते हुए
 वैशाखी दा पावन पर्व दिवस 13 अप्रैल 20 20 घर मैं ही "सुखमनी साहब" का पाठ 10 से 11:00 बजे तक करके गुरु चरणा विच अरदास करिए। 


गुरु सच्चे पातशाह इस बीमारी तो निजात दिलाएं। 
उन्होंने आगे कहा कि घरों में ही परिवार के साथ धार्मिक प्रश्नोत्तरी एवं नितनेम का पाठ करें l जिसका उद्देश्य सिख धर्म एवं इसके इतिहास को भली भाँति बच्चों को समझनाl सिख धर्म का एक अभिन्न अंग है जिसको गुरु नानक देव जी द्वारा शुरु किया गया था सिख विरासत को सिक्ख इतिहास एवं राष्ट्र के प्रति बलिदान को घर के बड़े बुजुर्गों परिवार में बताएं।


टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

जिलाधिकारी ने विकास खण्ड करछना, मेजा एवं कोरांव में आयोजित गरीब कल्याण मेले में पहुंचकर विभिन्न विभागों के द्वारा लगाये गये स्टाॅलों का किया अवलोकन

विभिन्न आयु वर्गो हेतु चयन ट्रायल 15 अगस्त को

जिलाधिकारी ने थाना मऊ में समाधान दिवस के अवसर पर सुनी जनता की समस्यायें