संगम नगरी में आने पर अधिक ऊर्जा की अनुभूति होती है: पी यम मोदी



प्रयागराज,(स्वतंत्र प्रयाग) हमारी ही सरकार है जिसने पहली बार दिव्यांगजनों के अधिकारों को स्पष्ट करने वाला कानून लागू किया। इस कानून का एक बहुत बड़ा लाभ ये हुआ है कि पहले दिव्यांगों की जो सात अलग-अलग तरह की कैटेगरी होती थी, उसे बढ़ाकर 21 कर दिया गया। 


उक्त बातें प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने संगम क्षेत्र के परेड ग्राउंड पर 30 हजार दिव्यांगों को उपकरण वितरण के पश्चात उमड़े जनसमुदाय को संबोधित करते हुए आगे कहा कि एक राज्य से दूसरे राज्य में जाने पर अलग-अलग भाषा होने पर भी दिव्यांगों को दिक्कतें होती थीं। पहले ये सोचा ही नहीं गया कि दिव्यांगों के लिए एक कॉमन साइन लैंग्वेज हो।


हमारी सरकार ने इंडियन साइन लैंग्वेज रिसर्च एंड ट्रेनिंग सेंटर की स्थापना की है। आगे कहा कि हमारी ही सरकार है, जिसने सुगम्य भारत अभियान चलाकर देश भर की बड़ी सरकारी इमारतों को दिव्यांगों के लिए सुगम्य बनाने का संकल्प किया। उन्होंने कहा कि संगमनगरी में आने के बाद असीम ऊर्जा का संचार होता है।


करीब एक वर्ष पहले प्रयागराज में कुंभ के दौरान मुझे विशेष आशीर्वाद मिला था। यहां पर महाकुंभ के दौरान मैंने सफाईकर्मियों के पैर धोकर बड़ा आशीर्वाद प्राप्त किया। यह सभी महान कार्य में लगे थे, ऐसे लोगों का आशीर्वाद बेहद जरूर है। मुझे इनके चरण को धोने के साथ इनके बीच रहने का अनोखा अनुभव मिला।


उक्त अवसर पर राज्यपाल आनन्दी बेन पटेल, मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ, उपमुख्यमंत्री केशव प्रसाद मौर्या, सांसद प्रोफेसर रीता बहुगुणा जोशी, केशरी देवी पटेल, विधायक नीलम उदयभान करवरिया सहित दर्जनों मंत्री, सांसद विधायक व पदाधिकारी मौजूद रहे।


टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

प्रधानमंत्री जी भारतीय आयुर्वेद चिकित्सा में,लेमन थेरेपी से कोरोना वायरस को मिल रही है मात,:-पूर्व डीजीपी मैथलीशरण गुप्त

Coronavirus से घबराएं नहीं,दो बूंद नींबू का रस लें, पिएं हल्दी युक्त गुनगुना पानी :-पूर्व डीजीपी मैथिलीशरण गुप्त

कल से बदल जाएंगे कई नियम , आम आदमी की जेब और घर के बजट पर इसका सीधा असर