दिल्ली चुनाव हारने का मतलब यह नही की भाजपा से लोगो का विश्वास उठ गया है : अमित शाह


नई दिल्ली,(स्वतंत्र प्रयाग) भाजपा के वरिष्ठ नेता और केंद्रीय गृहमंत्री अमित शाह ने दिल्ली चुनावों में भाजपा को मिली हार के बाद कहा कि मेरा आकलन गलत हो गया। हम चुनाव सिर्फ जीत या हार के लिए नहीं लड़ते हैं। भाजपा एक ऐसी पार्टी है जो अपनी विचारधारा का विस्तार करने में विश्वास करती है। इसके साथ ही उन्होंने कहा कि दिल्ली चुनाव परिणाम सीएए और एनआरसी का जनादेश नहीं है।


अमित शाह एक टीवी चैनल को दिए इंटरव्यू दे रहे थे जिसमें उन्होंने कि हमारा मन शुद्ध है और हम शुद्ध मन से काम करते हैं। हमने कभी भी धर्म के आधार पर भेदभाव नहीं किया है। मैं आज भी देश को बताना चाहता हूं कि नागरिकता संशोधन कानून में ऐसा कोई भी प्रावधान नहीं है। जो मुस्लिमों की नागरिकता ले लेता हो।


दिल्ली चुनाव प्रचार-प्रसार के दौरान केंद्रीय मंत्री अनुराग ठाकर और सांसद प्रवेश वर्मा द्वारा दिए विवादित बयान पर अमित शाह ने कहा कि चुनाव में ‘गोली मरो’ और ‘भारत-पाकिस्तान मैच’ जैसे बयान नहीं दिए जाने चाहिए थे। इन बयानों से पार्टी को नुकसान संभव है। इसके साथ ही उन्होंने कहा कि पार्टी ने इस तरह की बयानबाजी से से खुद को दूर कर लिया है।


अन्य राज्यों के चुनाव परिणामों पर शाह ने कहा कि मोदी जी अभी कुछ ही समय पहले सबसे बड़े बहुमत के साथ विजयी रहे। अब सही बात है कि कुछ राज्यों में सफलता नहीं मिली लेकिन इसका मतलब यह नहीं कि भाजपा से लोगों का विश्वास उठा है। महाराष्ट्र में हम चुनाव जीते हैं। हरियाणा में केवल 6 सीटें कम हुईं हैं। झारखंड में हम चुनाव हारे और दिल्ली में पहले से हारे हुए थे बावजूद इसके सीट और वोट पर्सेंट बढ़ा है।


टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

प्रधानमंत्री जी भारतीय आयुर्वेद चिकित्सा में,लेमन थेरेपी से कोरोना वायरस को मिल रही है मात,:-पूर्व डीजीपी मैथलीशरण गुप्त

Coronavirus से घबराएं नहीं,दो बूंद नींबू का रस लें, पिएं हल्दी युक्त गुनगुना पानी :-पूर्व डीजीपी मैथिलीशरण गुप्त

कल से बदल जाएंगे कई नियम , आम आदमी की जेब और घर के बजट पर इसका सीधा असर