विद्या देवी 97 वर्ष की उम्र में बनीं पुराना बास ग्राम पंचायत की सरपंच 



जयपुर (स्वतंत्र प्रयाग): राजस्थान के सीकर जिले में नीमकाथाना की पुराना बास ग्राम पंचायत से विद्या देवी प्रदेश की सबसे उम्रदराज सरपंच चुनी गई हैं। प्राप्त जानकारी के अनुसार 97 वर्षीय विद्या देवी पंचायत चुनाव के प्रथम चरण के तहत शुक्रवार को हुए चुनाव में सरपंच निवार्चित हुई।


पुराना बास ग्राम पंचायत के सरपंच पद के लिए हुए चुनाव में 3945 मतदाताओं में से 2846 मतदाताओं ने अपने मताधिकार का प्रयोग किया। श्रीमती विद्या देवी को 840 मत मिले जबकि उनकी निकट प्रतिद्वंद्वी आरती मीणा ने 636 मत हासिल किये।अपने परिवार के साथ जीत के बाद खुशी जतातीं विद्यादेवी।


पंचायतों के गठन के समय से इनके ससुर सूबेदार सेडू राम बहादुर सरपंच चुने गए थे। इसके बाद इनके पति मेजर शिवराम सिंह को ग्रामीणों ने निर्विरोध सरपंच चुना। इससे पहले श्री शिवराम सिंह वर्ष 1977 में कांग्रेस प्रत्याशी के रुप में विधायक चुनाव का चुनाव लड़ा, जिसमें वह चुनाव हार गये थे।विद्यादेवी आज भी खुद गांववालों के बीच पहुंचती हैं। वे कहती हैं कि उन्हें किसी की मदद की जरूरत नहीं।


वे सरपंच बनी हैं, तो अपनी जिम्मेदारी खुद उठाएंगी।इनका बड़ा बेटा राम सिंह एवं देवरानी भगवती देवी भी सरपंच रह चुकी है। वर्तमान में पोता मोंटू कृष्णिया जिला परिषद का सदस्य है। निर्वाचित होने के बाद सरपंच विद्या देवी ने कहा कि गांव का विकास एवं गांव को स्वच्छ जल मिले, यह उनकी प्राथमिकता रहेगी।


विद्या देवी को 843 मत मिले थे।उनकी प्रतिद्वंद्वी आरती मीणा को 636 मत मिले थे।36 सरपंच और 11,035 पंच  निर्विरोध चुने गए उल्लेखनीय है कि पंचायत के पहले चरण के चुनाव में 87 पंचायत समितियों की 2726 ग्राम पंचायतों के 26,800 वार्डों के लिए शुक्रवार को मतदान संपन्न हुआ।


सरपंच पदों के लिए शुक्रवार को ही मतगणना करवाई जाएगी। इन 87 पंचायत समिति क्षेत्रों में कुल 93,20,684 मतदाता हैं। सरपंच के पद के लिए 17,242 और पंच के पद के लिए 42,704 उम्मीदवार मैदान में हैं। इस बीच राज्य भर में 36 सरपंच और 11,035 पंच निर्विरोध चुन लिए गए हैं