बुधवार, 1 जनवरी 2020

शहरी भारत ने हासिल किया खुले में शाैच मुक्त होने का लक्ष्य 



नई दिल्ली (स्वतंत्र प्रयाग)- बीते वर्ष 2019 के दौरान स्वच्छ भारत मिशन-शहरी ने शहरी भारत को खुले में शौच से मुक्त (ओडीएफ) बनाने के अपने लक्ष्य को प्राप्त कर लिया है। सरकार के अनुसार सभी राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों के शहरी क्षेत्र ओडीएफ बन गए हैं। कुल मिलाकर, 4320 शहरों ने खुद को ओडीएफ घोषित किया है। 


निर्धारित लक्ष्य 59 लाख घरेलू व्यक्तिगत शौचालय से ज्यादा 65.81 लाख का निर्माण किया गया वहीं सामुदायिक और सार्वजनिक शौचालयों के लिए 5.08 लाख के लक्ष्य से ज्यादा 5.89 लाख का निर्माण किया गया है। इन सभी सार्वजनिक शौचालयों को गूगल मैप से जोड़ा गया जिससे आम लोगों को इस स्वच्छता सुविधा का लाभ लेने में आसानी हो।


अब तक, 2300 शहरों के 57,000 से अधिक सार्वजनिक शौचालय गूगल मैप पर मौजूद हैं। इसमें भारत की कुल शहरी आबादी का 50 प्रतिशत से अधिक भाग आता है। अभी तक, 96 प्रतिशत वार्डों में घर-घर जाकर कचरा एकत्र करने और इस उत्पन्न कुल कचरे के 60 प्रतिशत हिस्से को फिर से इस्तेमाल करने का काम कर लिया जाता है।


कचरा मुक्त शहरों के लिए स्टार रेटिंग की शुरूआत की गयी। इंदौर, अंबिकापुर, नवी मुंबई और मैसूरु को पांच -सितारा शहर, 57 शहरों को तीन -सितारा शहर और चार शहर को एक-सितारा शहर की श्रेणी में प्रमाणित किया गया है।


कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें