बुधवार, 1 जनवरी 2020

समृद्धि उत्सव का खाका तैयार , सरकार शहरी गरीबों की परेशानी कम करेगी


नई दिल्ली (स्वतंत्र प्रयाग)- राष्ट्रीय शहरी आजीविका मिशन के तहत शहरी विकास मंत्रालय ने विभिन्न राज्यों के प्रतिनिधियों के साथ एक अहम बैठक की है। यह बैठक शहरी गरीबों की पेशेवर परेशानियों को दूर करने के उद्देश्य से बुलाई गई। राज्यों के प्रतिनिधियों के अतिरिक्त बैठक में ऑनलाइन पोर्टल फ्लिपकार्ट व कौशल विकास परिषद के प्रतिनिधियों ने भी हिस्सा लिया। केंद्र सरकार 28 मार्च से 12 अप्रैल, 2020 तक शहरी समृद्धि उत्सव का आयोजन करने जा रही है। इस आयोजन की रूपरेखा भी इस बैठक में तय की गई।
शहरी समृद्धि उत्सव, 2020 की नियोजित गतिविधियों में ई-कॉमर्स पोर्टल पर स्वयं सहायता समूहों के (एसएचजी) उत्पादों की ऑन-बोर्डिग, प्लम्बिंग क्षेत्र में कौशल विकास, शीर्ष 100 शहरों में सभी के लिए स्मार्ट आईडी कार्ड, स्ट्रीट वेंडर्स के लिए प्रमाण पत्र, स्ट्रीट वेंडर्स अधिनियम को लागू करने के बारे में राष्ट्रीय प्रतियोगिता तथा स्वच्छता उत्कृष्टता पुरस्कार शामिल हैं। आवास और शहरी कार्य मंत्रालय में सचिव दुर्गा शंकर मिश्रा ने कहा कि शहरी समृद्धि उत्सव 2020 की नियोजित गतिविधियां न केवल इस मिशन को गति प्रदान करेंगी बल्कि भारत को 5 ट्रिलियन डॉलर की अर्थव्यवस्था बनाने के सपने को साकार करने में भी योगदान देंगी।


कार्यशाला के बारे में जानकारी देते हुए संयुक्त सचिव और डीएवाई-एनयूएलएम निदेशक संजय कुमार ने कहा कि शहरी समृद्धि उत्सव 2019 में शहरी गरीबों की सामाजिक परेशानियों को कम करने पर जोर दिया गया। वही एसएसयू, 2020 में शहरी गरीबों की पेशेवर परेशानियों को दूर करने की गतिविधियों पर ध्यान केन्द्रित किया जाएगा। स्वयं सहायता समूहों द्वारा तैयार किए गए उच्च गुणवता उत्पादों की फ्लिपकार्ट पोर्टल पर ऑन-बोर्डिग के लिए फ्लिपकार्ट और डीएवाई-एनयूएलएम के बीच एक समझौता ज्ञापन पर हस्ताक्षर किए गए हैं। इस पहल से महिला उद्यमियों का ब्रांडिंग कौशल, डिजिटल विपणन, वित्तीय प्रबंधन में क्षमता निर्माण करने के अलावा स्वयं सहायता समूहों द्वारा स्थानीय रूप से तैयार उत्पादों के लिए व्यापक उपभोक्ता आधार तक पहुंच उपलब्ध कराने में भी मदद मिलेगी।


कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें