पूरे भारत में 10 हजार ज्वैलर्स को इनकम टैक्स डिपार्टमेंट ने दिया नोटिस


मुंबई (स्वतंत्र प्रयाग) : नोटबंदी के समय में तय नियम से हुई अधिक ट्रांजेक्शंस को लेकर इंकम टैक्स विभाग सख्त रुख अपनाए हुए है। इसी सख्ती के फलस्वरूप कई ज्वैलर्स को विभाग की तरफ से नोटिस भेजे गए हैं। मीडिया रिपोट्र्स के मुताबिक देशभर के करीब 10 हजार जूलर्स एसेसमेंट फाइल करने में नाकाम रहे।


इसीलिए इनकम टैक्स डिपार्टमेंट की तरफ से रिकवरी नोटिस भेजा गया है।खरीदे गए सोने और गिफ्ट में मिली ज्वेलरी से जुड़े इन नियमों को जानें, हमेशा रहेंगे टेंशन फ्री
आईबीजीए के राष्ट्रीय सचिव सुरेंद्र मेहता के मुताबिक देशभर में करीब 3 लाख ज्वैलर्स हैं और उत्तर प्रदेश, पंजाब, हरियाणा, गुजरात, राजस्थान, तमिलनाडु के करीब 10 हजार ज्वैलर्स को इनकम टैक्स डिपार्टमेंट ने नोटिस भेजा है। 


नोटिसों में  18 से 20 हजार करोड़ रुपये की रिकवरी की बात लिखी गई है। अगर इतनी रिकवरी हुई तो ज्वैलर्स पर काफी बोझ पड़ जाएगा। जिन जूलर्स को यह नोटिस मिला है उन्हें अपील दायर करने से पहले कर मांग की कम से कम 20 फीसदी राशि जमा करनी होगी। मुंबई में ही टैक्स विभाग ने करीब 500 जूलर्स को टैक्स रिकवरी का नोटिस भेजा है।



घर पर रखे सोना-चांदी को लेकर जानकारों का कहना है कि इसे रखने की कोई लिमिट तय नहीं है। हालांकि घर पर जितना भी सोना या ज्वेलरी हो उसका इनकम सोर्स बताना जरूरी होता है। गौरतलब है कि नोटबंदी के बाद घर पर रखे सोने का सोर्स बताना अनिवार्य हो गया है। सीबीडीटी ने 1 दिसंबर 2016 के बाद यह नियम तय किए हैं


टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

पुरा छात्र एवं विंध्य गौरव ख्याति समारोह बड़े शानोशौकत से हुआ सम्पन्न

प्रयागराज में युवक की जघन्य हत्या कर शव को शिव मंदिर के समीप फेंका , पुलिस ने शव को लिया अपने कब्जे में

विधालय का ताला तोड़कर चोरों ने हजारों का सामान किया चोरी