बुधवार, 1 जनवरी 2020

फैसला निर्भया के साथ हुए गुनाह का, चार गुनाहगार चार तख्त 7 वर्ष में अन्ततः मिला न्याय ,एक साथ ही होगी चारों को फांसी


नई दिल्ली (स्वतंत्र प्रयाग): निर्भया को इंसाफ और उसके साथ दरिंदगी करने वाले गुनहगारों को सजा-ए-मौत देने में बस चंद दिन ही  बाकी हैं। जानकारी के मुताबिक, तिहाड़ जेल में निर्भया के चारों गुनाहगारों को एक साथ फांसी दी जाएगी। इसके लिए तख्ते भी तैयार कर लिए गए हैं।अब तिहाड़ जेल देश का पहला ऐसा कारागार हो गया है, जहां एक साथ चार तख्ते फांसी के लिए तैयार हैं।


अभी तक यहां फांसी के लिए एक ही तख्त था, लेकिन अब इनकी संख्या बढ़ाकर 4 कर दी गई है। तिहाड़ जेल के अंदर तख्ते तैयार करने का काम लोक निर्माण विभाग यानी पीडब्ल्यूडी ने बीते सोमवार को पूरा कर लिया था। तिहाड़ जेल सूत्रों ने बताया कि इस काम को पूरा करने के लिए जेल के अंदर जेसीबी मशीन भी लाई गई थी।


जेसीबी मशीन की मदद से तीन नए फांसी के तख्ते और सुरंग तैयार की गई है. सूत्रों ने बताया कि फांसी के तख्तों के नीचे एक सुरंग भी बनाई जाती है। इसी सुरंग के ज़रिए फांसी के बाद मृत कैदी का शव बाहर निकाला जाता है। फिलहाल तीन नए फांसी के तख्तों के साथ ही पुराने तख्ते को भी बदल दिया गया है।


मालूम हो कि 6 दिसंबर 2012 को हुए निर्भया गैंगरेप मामले में चारों दोषियों की फांसी पर अमल की तैयारी अंतिम चरण में है। दोषियों अक्षय, पवन, विनय और मुकेश के डेथ वारंट पर पटियाला हाउस कोर्ट 7 जनवरी को सुनवाई करेगा।


दोषियों ने क्यूरेटिव याचिका लगाने की बात तिहाड़ जेल प्रशासन को लिखकर दी है। जानकारों का कहना है कि 19 दिसंबर को दोषियों की पुनर्विचार याचिका सुप्रीम कोर्ट ने खारिज की थी। इसके एक माह में क्यूरेटिव अर्जी लगाई जा सकती है। फिर दया याचिका अंतिम विकल्प है। निर्भया गैंगरेप केस जघन्यतम श्रेणी का है. इसलिए राहत की उम्मीद कम है।


कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें