मस्जिद में लाउडस्पीकर लगाने की परमीशन याचिका पर , इलाहाबाद हाईकोर्ट ने कहा संतुलन बिगड़ सकता हैं



प्रयागराज (स्वतंत्र प्रयाग) यूपी के एक गांव में मस्जिद पर लाउडस्पीकर लगाने पर लगी रोक को हटाने की मांग को इलाहाबाद हाईकोर्ट ने इनकार कर दिया है। कोर्ट ने ​कहा, कोई भी धर्म ये आदेश या उपदेश नहीं देता कि तेज आवाज वाले यंत्रों से ही प्रार्थना की जाए। लाउडस्पीकर पर अगर रोक हटा ली गई तो असंतुलन खड़ा हो सकता है।


पूरे प्रकरण पर नजर डालें तो पता चलता है कि गांव में एसडीएम ने दो समुदायों के बीच विवाद को रोकने के लिए किसी भी धार्मिक स्थल पर इन तेज ध्वनि वाले उपकरण को न लगाने का आदेश दिया था। जिसके बाद हाईकोर्ट में एक याचिका दाखिल की गई। इसमें कहा गया वे मस्जिदों में रोजाना 5 बार दो मिनट के लिए इन उपकरणों के प्रयोग की अनुमति चाहते हैं।


उसमें दावा किया गया था कि इससे प्रदूषण या शांति व्यवस्था को खतरा नहीं है। यह उनके धार्मिक कार्यों का हिस्सा है, बढ़ती आबादी की वजह से लोगों को लाउडस्पीकर के जरिए नमाज के लिए बुलाना जरूरी हो जाता है। 
याचिका पर सुनवाई करते हुए जस्ट‌िस पंकज मिठल और जस्टिस विपिन चंद्र दीक्षित ने अपने आदेश में कहा, कोई भी धर्म ये आदेश या उपदेश नहीं देता है कि ध्वनि विस्तारक यंत्रों के जर‌िए प्रार्थना की जाए या प्रार्थना के लिए ड्रम बजाए जाएं।


अगर ऐसी कोई परंपरा है, तो उससे दूसरों के अधिकारों पर प्रतिकूल प्रभाव नहीं पड़ना चाहिए, न किसी को परेशान किया जाना चा‌हिए। मौजूदा मामले में यह साफ है कि ऐसा कराने की जरूरत नहीं है। इससे सामाजिक असंतुलन पैदा हो सकता है।


टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

प्रधानमंत्री जी भारतीय आयुर्वेद चिकित्सा में,लेमन थेरेपी से कोरोना वायरस को मिल रही है मात,:-पूर्व डीजीपी मैथलीशरण गुप्त

Coronavirus से घबराएं नहीं,दो बूंद नींबू का रस लें, पिएं हल्दी युक्त गुनगुना पानी :-पूर्व डीजीपी मैथिलीशरण गुप्त

कल से बदल जाएंगे कई नियम , आम आदमी की जेब और घर के बजट पर इसका सीधा असर