खाड़ी में युद्ध की आहट तनाव चरम पर,सुरक्षा परिषद की बैठक में जरीफ को वीजा देने से ट्रंप का इंकार , युद्ध पोतों की तैनाती

 



वाशिंगटन (स्वतंत्र प्रयाग): अमेरिका राजनयिक सूत्रों के अनुसार, ट्रंप प्रशासन के अधिकारी ने सोमवार को संयुक्त राष्ट्र महासचिव एंटोनियो गुटेरेस को फोन करके बताया कि अमेरिका ने ईरान के विदेश मंत्री मोहम्मद जवाद जरीफ को देश मेें प्रवेश की अनुमति नहीं देगा।


इसी के बाबत  अमेरिका ने ईरान के विदेश मंत्री मोहम्मद जवाद जरीफ के संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद की बैठक में भाग लेने आने के लिये वीजा देने से इंकार कर दिया है।
गुरुवार को होने वाली सुरक्षा परिषद की बैठक में जरीफ को विश्व समुदाय को संबोधित करना था क्योंकि अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प ने तीन जनवरी को ड्रोन हमले का आदेश दिया था। इस हमले में ईरान की इस्लामिक रिवोल्यूशनरी गार्ड कोर के कमांडर कासिम सुलेमानी समेत कई लोग मारे गए थे।


 हाल ही में ईरान पर की गई अमेरिका की सैन्य कार्रवाई के मद्देनजर ईरान ने खुले तौर पर अमेरिका को परिणाम भुगतने की चेतावनी दी हैं। मौजूदा समय में अमेरिका-ईरान के बीच बढ़ते तनाव को देखते हुए अमेरिका ने मिडिल ईस्ट की तरफ 2,000 युद्धपोत तैनात कर दिए हैं जिसमें वर्ल्ड क्लास  वारशिप भी रखे गए हैं।


इसके अलावा 4,000 की संख्या में अमेरिकी हवाई सैनिक भी तैनात किए गए हैं।बता दें कि अपने जनरल कासिम सुलेमानी को अंतिम विदाई देने के लिए भारी संख्या में ईरान की जनता सोमवार को तेहरान की सड़कों पर उतर आई। इसके साथ ही उनके सम्मान में प्रार्थना सभा भी की गई जिसमें देश के सुप्रीम लीडर तक रो पड़े।