जेएनयूएसयू में राष्ट्रविरोधियों ने हमारे बेचारे गुंडों को लाठियां भी सही से भांजने नहीं दी:-जावेद अख्तर ट्वीट


 


नई दिल्ली (स्वतंत्र प्रयाग)आइशी घोष अध्यक्ष जेएनयूएसयू पर हुए एफआईआर को लेकर है। जेएनयू में हुई हिंसा से एक दिन पहले यूनिवर्सिटी के सर्वर रूम में कथित रूप से तोड़फोड़ करने के मामले में आइशी घोष और 19 अन्य लोगों के खिलाफ एफआईआर दर्ज किया गया है। जबकि रविवार को जेएनयूएसयू में हुई हिंसा में आइशी घोष समेत 34 लोग घायल हुए थे, जिसमें छात्रों के साथ-साथ शिक्षक भी शामिल थे।


आइशी घोष पर हुई एफआईआर को लेकर आज जावेद अख्तर ने ट्वीट किया है, जो मीडिया पर खूब वायरल हो रहा है। अपने ट्वीट में जावेद अख्तर ने लिखा कि -
जेएनयूएसयू के अध्यक्ष के खिलाफ एफआईआर पूरी तरह से समझ में आती है।  कैसे वह अपने सिर के साथ एक राष्ट्रवादी, देश प्रेमी लोहे की छड़ को सिर से रोकने की हिम्मत करती थी।


इन राष्ट्रद्रोहीयों ने हमारे गरीब गुंडों को एक लाठी को अच्छी तरह से चलाने भी नहीं देते हैं। अपना सिर आगे कर देती हैं मुझे पता है कि उन्हें चोट लगना पसंद है।


बता दें कि एफआईआर जेएनयू प्रशासन की तरफ से दर्ज कराई गई थी।सर्वर रूम में तोड़फोड़ का आरोप लगा है। उनके खिलाफ भारतीय दंड संहिता (आईपीसी) की धारा 341, 323 और 506 और सार्वजनिक संपत्ति क्षति रोकथाम अधिनियम, 1984 की विभिन्न धाराओं के तहत मामला दर्ज किया गया है।


इसके अलावा जवाहरलाल नेहरू विश्वविद्यालय परिसर में बीते रविवार रात लाठियों और लोहे की छड़ों से लैस कुछ नकाबपोश लोगों ने परिसर में प्रवेश कर छात्रों तथा शिक्षकों पर हमला कर दिया था, और परिसर में संपत्ति को नुकसान पहुंचाया था।बाद में प्रशासन को पुलिस को बुलाना पड़ा।