जब फरियादी बन खुद थाने पहुच गए एडीजी ,एफआईआर कराने तो पुलिस वाले ने झाड़ दिया रौब


प्रयागराज,(स्वतंत्र प्रयाग) बताते चले कि ए डी जी प्रेम प्रकाश आते ही पुलिस की ब्यवस्था को चुस्त दुरुस्त करने का निर्देश कर चुके थे। इसी क्रम में सभी थानों के औचक निरीक्षण कर रहे है बीती देर रात ए डी जी सिविल लाइन थाने का औचक निरीक्षण करने एक गुमनाम फरियादी के साथ मे मोबाइल चोरी की प्राथमिकी दर्ज कराने थाने पहुच गए।
 


ए डी जी जोन श्री प्रेम प्रकाश को पुलिसिया धौस का सामना करना पड़ा  धौस का सामना क्यों न करना पड़े उत्तर प्रदेश की पुलिस इतना बेलगाम हो चुकी है  कि इसके संबंध में कुछ कहने और बताने की जरूरत  नही है खुद ए डी जी साहब को पुलिस की करतूत से दो चार होना पड़ा ।


हुआ यूं कि ए डी जी जोन एक फरियादी के साथ जब सिविल लाइन थाने पहुचे तो  थाने पर मौजूद पुलिस वाले ए डी जी जोन पर ही धौस जमाने लगे सबसे सोचनीय प्रश्न यह है कि पुलिस वालो  को अपने विभाग के एक वरिष्ठ अधिकारी को ही नही पहचान पाए ।



 जब कि एक नही वहां पर कई पुलिस कर्मी मौजूद रहे । जब ए डी जी जोन राहगीर के साथ सिविल लाइन थाने पहुचे तो वहाँ पर ड्यूटी पर सिविल लाइन चौकी प्रभारी राजेश कुमार तथा मुंशी लल्लन के अलावा  थाने के सिपाही तथा कुछ होम गार्ड संतरी थाने में मौजूद थे।
पुलिस वाले ने  आम  फरियादी की तरह ही उनसे ब्यौहार करने लगे।
 


जब राहगीर और ए डी जी थाने  पहुचे तो पुलिस वाले  उनसे थाने पर आने का कारण पूछा तो राहगीर ने मोबाइल चोरी की बात बताई और कहा कि (F I R)यफ़ आई आर दर्ज करानी है।
 


तो उनसे प्रार्थना पत्र लिखने के लिए कहा गया कि प्रार्थना पत्र लिख कर दे दो प्रार्थना लिखते समय मोबाइल से वीडियो बनाते समय वहां पर तैनात सिपाही ने धौस जमाने की कोशिश करने लगा और कहा कि मोबाइल से वीडियो बनाना बन्द कर दो।


जब ए दी जी साहब ने इसकी वजह पूछा तो उसने रौब झाड़ते  हुए कहा कि दरोगा जी से बात करो।
इसके बाद क्या वहां पर तैनात दरोगा तथा ड्यूटी पर तैनात मुंशी भी धौश जमाते हुए ए डीजी को मोबाइल बन्द करने को कहा इतने तक बात सीमित नही रही तो  कार्यवाही तक कि धमकी तक दे दिया।


इतने में ए डीजी अपना परिचय दे दिए तब सभी के होश उड़ गए और माफी मांगने लगे  ए डीजी ने सभी को जम कर फटकार लगाते हुए चेतावनी दे कर माफ कर दिया। 
इसी बीच ए डी जी के थाने पहुँचने की सूचना पर यस यस पी सत्यार्थ अनिरुद्ध पंकज तथा जिलाधिकारी भानुचंद गोस्वामी भी मौके पर पहुच गए।
 


यस यस पी ने भी सभी पुलिस कर्मियो को फटकार लगाई तथा चेतावनी दे कर छोड़ दिया अब ये सवाल खड़ा होता है कि एक पुलिस विभाग के आला अधिकारी ए डी जी के साथ पुलिस का ब्यौहार इस तरह है तो आम जनता के साथ कैसा बर्ताव पुलिस करती होगी यह तो ए डी जी साहब समझ गए होंगे ।


सिविल लाइन थाने का ही नही पूरे प्रयागराज के जमुनापार के सभी थानों की कमोवेश यही स्थिति है हर थाने  में पुलिस को किसी का कोई भय नही है अगर ए डी जी जोन या वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक प्रयागराज भी पुलिस थानों के औचक निरीक्षण करते रहेंगे या करेंगे तो चुस्त दुरुस्त प्रयागराज पुलिस हो सकती है।


अब कही निरीक्षण हो या न हो किन्तु पुलिस में संदेश  जरूर जाएगा कि किसी भी समय अधिकारी थानों पर आ सकते है आगे ऐसा हो या न हो किन्तु ए डी जी साहब की चारो ओर प्रसंशा हो रही है लोगो की जुबान पर है कि ऐसा अधिकारी अगर रहेगा तो पुलिस और अपराधी सुधर  जाएंगे ए डी जी जोन की इस कार्यवाई से सभी वरिष्ठ अधिकारियो को सीख लेनी चाहिए।


टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

प्रधानमंत्री जी भारतीय आयुर्वेद चिकित्सा में,लेमन थेरेपी से कोरोना वायरस को मिल रही है मात,:-पूर्व डीजीपी मैथलीशरण गुप्त

Coronavirus से घबराएं नहीं,दो बूंद नींबू का रस लें, पिएं हल्दी युक्त गुनगुना पानी :-पूर्व डीजीपी मैथिलीशरण गुप्त

कल से बदल जाएंगे कई नियम , आम आदमी की जेब और घर के बजट पर इसका सीधा असर