गुजरात में 196 बच्चों ने तोड़ा दम, सवाल पूछे जाने पर बिना जवाब दिए चलते बने मुख्यमंत्री रूपाणी


अहमदाबाद (स्वतंत्र प्रयाग) अब गुजरात में 196 शिशुओं की मौत का मामला सामने आया है। राजकोट के सिविल अस्पताल में पिछले महीने दिसंबर में 111 बच्चों की मौत हो गई, वहीं अहमदाबाद में 85 नवजातों ने दम तोड़ दिया। यह जानकारी इसलिए भी भयावह है कि खुद अस्पताल के डीन मनीष मेहता ने इसकी पुष्टि की है। 


मामले संबंधित जानकारी देते हुए अहमदाबाद सिविल अस्पताल के सुपरिटेंडेंट जीएस राठौड़ ने बताया, 'दिसंबर में 455 नवजात आईसीयू में भर्ती हुए थे, उनमें से 85 की मौत हो गई।' राजकोट में भी 111 मासूमों की मौत की पुष्टि हो चुकी है। हालांकि, अस्पताल प्रशासन इन मौतों की बात स्वीकार तो कर रहा है लेकिन किसी चिकित्सीय लापरवाही से साफ इनकार कर रहा है।


चौकाने वाली बात यह है कि जब इस मामले में मीडिया ने सीएम विजय रूपाणी से सवाल पूछा तो वह जवाब दिए बिना ही आगे बढ़ गये


गुजरात में 196 बच्चों ने तोड़ा दमकोटा में मर चुके हैं 110 मासूम राजस्थान के कोटा स्थित जेके लोन अस्पताल में नवजात बच्चों की बड़ी संख्या में मौत ने देशभर के होश उड़ा दिए हैं। पिछले एक महीने में 110 नवजात इस अस्पताल में दम तोड़ चुके हैं। कोटा के बाद राजस्थान के बूंदी से ही मासूमों की मौत की एक और खबर सामने आई है। वहीं, बीकानेर के पीबीएम अस्पताल में भी एक महीने के अंदर 162 बच्चों की मौत का मामला सामने आया है।


कोटा में बच्चों की मौतों के आकड़ों पर गौर करें तो वर्ष 2019 में अस्पताल में 16,915 नवजात भर्ती हुए, जिसमें से 963 की मौत हो गई। वर्ष 2018 में 16,436 बच्चों में 1005 नवजात की मौत हुई थी। 2014 से यह संख्या लगभग 1,100 प्रति वर्ष है। मृत्यु दर को नीचे लाने के लिए डॉक्टरों के सामने सबसे बड़ी दिक्कत क्या है, उसे भी जानना जरूरी है।