देश में जनगणना 2021की तैयारियां हुई पूरी , डिजिटल जनगणना की लिस्ट कार्यालयों को सौंपी गई



नई दिल्ली (स्वतंत्र प्रयाग): देश में जनगणना 2021 की तैयारियां हो चुकी है और एक अप्रैल से यह काम गृह सूचीकरण चरण के साथ शुरू होगा। जनगणना ऐक्ट की धारा 8 की उपधारा 1 के तहत होने जा रही जनगणना के लिए सरकार ने सभी जनगणना कार्यालयों को सवालों की लिस्ट सौंप दी है।


जब इस काम को अमल में लाया  जाएगा तब जनगणना कर्मी आपके घर आएंगे और सारी जानकारी मांगेंगे। ये कर्मी जिस घर में जाएंगे वहां जाकर ये कर्मी परिवार के मुखिया का मोबाइल नंबर, शौचालयों से संबंधित जानकारी, टीवी, इंटरनेट, वाहन, पेयजल का स्त्रोत आदि संबंधी जानकारी लेंगे। इस कवायद के साथ ही राष्ट्रीय जनसंख्या रजिस्टर (एनपीआर) का काम भी चलता रहेगा।


जनगणना अधिकारियों को एक अप्रैल से 30 सितंबर तक चलने वाली गृह सूचीकरण और गृह जनगणना की कवायद के दौरान हर परिवार से जानकारी हासिल करने के लिए 31 प्रश्न पूछने के निर्देश दिए गए हैं। पूछे जाने वाले सवाल


1. बिल्डिंग नंबर (म्यूनिसिपल या स्थानीय अथॉरिटी नंबर)
2. सेंसस हाउस नंबर
3. घर की छत, दीवार और सीलिंग में मुख्य रूप से इस्तेमाल हुआ मटीरियल
4. मकान के इस्तेमाल का उद्देश्य
5. मकान की स्थिति
6. मकान का नंबर
7. घर में कितने लोग रहते हैं
8. घर के मुखिया का नाम
9. मुखिया पुरुष या स्त्री
10. क्या घर के मुखिया अनुसूचित जाति/जनजाति या अन्य समुदाय से ताल्लुक रखते हैं
11. मकान का मालिकाना स्तर
12. मकान में मौजूद कमरे
13. घर में कितने शादीशुदा जोड़े रहते हैं
14. पीने के पानी का मुख्य स्त्रोत
15. घर में पानी के स्त्रोत की उपलब्धता
16. बिजली का मुख्य स्त्रोत
17. शौचालय है या नहीं
18. किस प्रकार के शौचालय हैं
19. ड्रेनेज सिस्टम
20. शौचालय है या नहीं
21. रसोई घर है या नहीं, इसमें एलपीजी,पीएनजी कनेक्शन है या नहीं
22. रसोई के लिए इस्तेमाल होने वाला ईंधन
23. रेडियो/ट्रांजिस्टर
24. टेलीविजन
25. इंटरनेट की सुविधा है या नहीं
26. लैपटॉप/कंप्यूटर है या नहीं
27. टेलीफोन/मोबाइल फोन/स्मार्टफोन उपयोग करते हैं या नहीं
28. साइकिल/स्कूटर/मोटर साइकिल/मोपेड है या नहीं
29. कार/जीप/वैन है या नहीं
30. घर में किस अनाज का मुख्य रूप से उपभोग होता है
31. मोबाइल नंबर 


बता दें कि इस बार 16 भाषाओं में दी जा सकेगी जनगणना की डिजिटल जानकारी


केंद्रीय गृहमंत्री ने कहा कि पहली बार डिजिटल जनगणना की जाएगी। मोबाइल ऐप के जरिए 16 भाषाओं में जानकारी दी जा सकती है जिसका सत्यापन किया जाएगा। अमित शाह ने कहा कि 2011 की जनगणना में पता चला था कि भारत बहुभाषी देश है और यहां 270 बोलियां बोली जाती है।


अमित शाह ने कहा कि 2011 की जनगणना के आंकड़ों का उज्जवला योजना में उपयोग हुआ और 8 करोड़ परिवारों को सिलेंडर दिया गया। उन्होंने कहा कि आजादी की 75वीं वर्षगांठ पर 2022 में एक भी व्यक्ति ऐसा नहीं होगा जिसके घर में गैस चूल्हा ना हो।