असम को मियां पोएट्री और अजमल से बचाना होगा,आज यहां लाखों अजमल हैं:-हिमांता बिस्वा



गुवाहाटी (स्वतंत्र प्रयाग) असम में एनआरसी को लेकर बड़ा विरोध व हंगामा हुआ। लेकिन अब भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के राज्य मंत्री हिमांता बिस्वा ने कहा कि तीन साल पहले यहां सिर्फ एक अजमल था। लेकिन आज यहां लाखों अजमल हैं।


हिमांता बिस्वा जी यही पर ही नहीं रूके। एक लाइन और आगे बढ़ते हूए कहा कि 'भाजपा कार्यकर्ताओं को असम को मियां पोएट्री और अजमल से बचाना होगा।'  यहां आपको बता दें कि 'मियां पोएट्री' बोल कर हिमांता बिस्वा ने बंगाल के उस एक विशेष समुदाय को लेकर निशाना साधा है जो बांग्ला बोलते हैं और कविताएं लिखते हैं।


बांग्ला बोलने वाले विशेष वर्ग ने अपनी कविताओं के जरिए सरकार को लेकर समय समय पर निशाना साधते आए हैं। कुछ दिन पहले ही बदरुद्दीन अजमल एनआरसी के मुद्दे पर खुल कर इन मुसलमानों के समर्थन में भी उतरे थे।ऐसे विवादित बयान हिमांता बिस्वा ने पार्टी के कार्यकारी अध्यक्ष जेपी नड्डा के मौजूदगी में ही दिया है।


राज्य में पार्टी की सरकार द्वारा किये गये विकास कार्यों का उल्लेख करते हुए उन्होंने कहा कि 'हमने यहां लोगों के लिए काम किया है…हमने मातृभूमि के लिए काम किया है…हमलोगों ने अजमलों से असम को आजादी दिलाने के लिए काम किया है…और मैं आपको बता दूं कि जब तक हमारे शरीर में खून का एक भी कतरा है हम बदरूद्दीन अजमल जैसों से संघर्ष करते रहेंगे।'


वहीं भाजपा के कार्यकारी अध्यक्ष जेपी नड्डा ने विपक्ष को निशाने पर लिया। उन्होंने कहा कि 'वो लोग कहते हैं कि करोड़ों लोग आएंगें पर अब कोई नहीं आएगा,वो लोग तब से ही यहां हैं जब से आप  कांग्रेस की सत्ता में थे। असम समझौते के खण्ड 6 को जरूर लागू किया जाएगा। ताकि यहां की संस्कृति को बचाया जा सके।


असम में सीएए के खिलाफ बीजेपी के हजारों कार्यकर्ता गुवाहाटी में आयोजित एक पब्लिक मीटिंग में शामिल हुए। इस बैठक में पार्टी के तमाम  वरिष्ठ नेताओं ने नागरिकता कानून को लेकर लोगों में जन जागरूक को लेकर समझने का प्रयास भी किया। पार्टी के वरिष्ठ नेताओं ने कहा कि राज्य सरकार राज्य के विकास और यहां की संस्कृति की सुरक्षा के लिए प्रतिबद्ध है।