अपराधी बक्शा नही जाएगा होगी कठोर कार्यवाही सिद्धार्थ नाथ सिंह



प्रयागराज( स्वतंत्र प्रयाग) सोरांव क्षेत्र के यूसुफपुर गांव में निर्मम हत्याकांड पर शोक संवेदना करने पहुँचे उत्तर प्रदेश के प्रवक्ता एवं कैबिनेट मा0 सिद्धार्थ नाथ सिंह ने मृतक विजय शंकर तिवारी के भाई जटा शंकर और कृपा शंकर तिवारी से मिले और शोक संवेदना व्यक्त करते हुए सरकार से हर संभव सहायता देने का सांत्वना दिया।


जटा शंकर ने एक पत्र सौपा और न्याय दिलाने की मांग किया और परिवार में मेरे भाई और बेटे सोम दत्त उर्फ मोनू तिवारी,इनकी पत्नी सोनी और कान्हा व कुंज की निर्ममतापूर्वक हत्या कर दी गयी।


तत्पश्चात मीडिया से रूबरू हुए मा0 मंत्री ने कहा तिवारी जी के परिवार से मिला हूं घटना से बहुत दुख है अभी दो दिन पूर्व कैबिनेट की बैठक में मैं और केशव जी ने इस घटना के विषय को उठाया और मुख्यमंत्री जी से आग्रह भी किया मुख्यमंत्री जी इस प्रकरण पर काफी संवेदनशील है।


मा0 मुख्यमंत्री जी ने सरकार की तरफ से जो भी संभव मदद दी जा सकती है उसके लिए उन्होंने तुरंत निर्देश दिए। इस घटना के विषय पर मैं यही कह सकता हूं कि सरकार की तरफ से पुलिस के हाथ खुले हुए हैं जो भी अपराधी हैं उन्हें तत्काल पकड़े और कठोर कार्यवाही करें।


इस प्रकार की जो घटनाएं हो रही है उन पर अंकुश लगना चाहिए। इस विषय पर स्वयं मुख्यमंत्री जी चिंतित हैं। ऐसा लगता है कि क्षेत्र में कोई गैंग सक्रिय है जो पकड़ा नहीं जा रहा है उसको तुरंत पकड़ा जाए उस पर कार्रवाई की जाए हमारी तरफ से पुलिस को पूरी तरह छूट है।


इसमें आवश्यकता पड़ी तो हम लोग इसके ऊपर एक एसआईटी बनवाते हुए इस क्षेत्र सोरांव की पूरी जांच कराई जाएगी। लगातार सोरांव क्षेत्र में अपराध बढ़ने को लेकर पत्रकारों द्वारा पूछे जाने पर श्री सिद्धार्थ नाथ सिंह ने कहा कि जिस विधानसभा क्षेत्र शहर पश्चिमी से मैं आता हूं वह प्रयागराज का सबसे बड़ा क्रिमिनल क्षेत्र हुआ करता था। मैं किसी अपराधी को आशीर्वाद नहीं देता हूं ।


किसी भी अपराधी को योगी सरकार में संरक्षण नहीं मिल सकता। पुलिस के हाथ बंधे नहीं है सही कार्यवाही के लिए पूरी छूट है।जो गैंग क्षेत्र में सक्रिय है उसका खुलासा करें और पकड़े तथा कठोर कार्यवाही होगी।अपराधी बख्शा नहीं जाएगा चाहे कोई भी हो।


इस मौके पर भाजपा क्षेत्रीय मंत्री काशी प्रान्त कमलेश कुमार,वीरेंद्र बहादुर सिंह,सुरेश मौर्या,ब्लॉक प्रमुख डब्बू यादव,गिरीन्द्र मणि आदि नागरिक उपस्थित रहे।