अपने ही बुने जाल में फंसे बीजेपी प्रवक्ता , गोड़से मुर्दाबाद था 'और मुर्दाबाद रहेगा बोलें :-संबितपात्रा


नई दिल्ली (स्वतंत्र प्रयाग) कांग्रेस सेवा दल द्वारा जारी पुस्तिका में हिन्दुत्व वादी छवी सावरकर को समलैंगिंग करार दिया गया है। यही नहीं पुस्तिका में यह भी कहा गया है कि सावरकर और महात्मा गांधी केंद्र हत्यारे नाथूराम गोडसे के बीच समलैंगिंक संबंध थे। फिलहाल इस  पुस्तिका में किए गए दावे से देश में  एक बार फिर गोडसे और सावरकर को लेकर सरकार व विपक्ष और भारतीय जनमानस में चर्चा के केंद्र में हैं।


एक टीवी न्यूज चैनले के लाइव डिबेट शो में चर्चा के दौरान सावरकर को लेकर बीजेपी के राष्ट्रीय प्रवक्ता संबित पात्रा और वहां मौजूद पैनलिस्टों के बीच सावरकर गोडसे को लेकर जमकर गहमागहमी शुरू हो गयी। मुस्लिम पैनलिस्टों ने उनपर एक साथ जुबानी हमले करना शुरू कर दिए , अंन्तत: कुछ देर बाद ही सही संबित पात्रा ने हमलें का जवाब  देना ही उचित समझा, और बचाव में संबित पात्रा भी अन्ततः 'गोडसे मुर्दाबाद' के नारे लगाने लगे।


मुद्दा तब शुरू हुआ जब वहां पर मौजूद जनता में शामिल एक युवक ने वीर सावरकर पर सवाल उठाए। युवक ने कहा कि गोडसे मुर्दाबाद हैं तो सावरकर भी मुर्दाबाद हैं।


“सावरकर मुर्दाबाद” के बाद मुस्लिम पैनलिस्टों ने घेरा तो संबित पात्रा को इस कदर ही घेर लिया कि वहां पर   'गोडसे मुर्दाबाद' का नारा लगाने लगे


जब पब्लिक ने घेरा तो संबित पात्रा ने भी एक बार बोला- 'गोडसे मुर्दाबाद' तब क्या था ,पात्रा के इतना कहते ही पैनल में शामिल मुस्लिम पैनलिस्टों में मौलाना अंसार रजा, संबित पात्रा और शोएब जामई ,ने उन्हें जमकर घेराबंदी की। मुस्लिम पैनलिस्टों ने कहा कि अगर पात्रा में हिम्मत हैं तो वह 'गोडसे मुर्दाबाद' के नारे लगाएं।


इस दौरान मुस्लिम पैनलिस्ट उन्हें लगातार 'गोडसे मुर्दाबाद' कहने के लिए उकसाते रहे। एक पैनलिस्ट ने कहा कि पात्रा को शर्म आनी चाहिए कि वे महात्मा गांधी के हत्यारे के लिए मुर्दाबाद का नारा नहीं लगा सकते। इसके बाद पात्रा ने दो बार 'गोडसे मुर्दाबाद' कहते हैं। देखिए वीडियो:-