अध्यापक पात्रता परीक्षा से बंचित किए गए एन आई ओ एस  से डी एल एड डिग्री धारी


जालौन, (स्वतंत्र प्रयाग) एक ओर जहां सरकार डिजिटल इंडिया मिशन, प्रधानमंत्री कौशल विकास योजना के तहत शिक्षार्थियों को डी एल एड डिग्री प्रदान कर रही है।


तो वहीं दूसरी ओर आज़ अध्यापक पात्रता परीक्षा में सम्मिलित होने बैठे परीक्षार्थियों को आंसरशीट देने के बाद बाहर निकाला गया है।एन आई ओ एस से डी एल एड डिग्री धारी परीक्षार्थियों का कहना है कि उनके पास केंद्र सरकार के द्वारा वैध डिग्री होने और वैध प्रवेश पत्र होने के बावजूद उन्हें परीक्षा देने से रोका गया है।


उनका कहना था कि डी आई ओ एस ने यह कहकर परीक्षा नहीं देने दी कि आप लोग इस एन आई ओ एस से प्राप्त डिग्री के आधार पर ये परीक्षा देने की पात्रता नहीं रखते हो।प्रशिक्षु शिक्षकों ( एन आई ओ एस से डिग्री धारी) ने कहा कि जब राज्य सरकार इसे वैध डिग्री नहीं मानती है तो फिर हम लोगों के साथ धोखा क्यों?


परीक्षार्थियों को परीक्षा केंद्रों से बाहर निकालने के बाद सभी परीक्षार्थियों ने जिलाधिकारी कार्यालय पहुंचकर अपनी आप-बीती जिलाधिकारी जालौन डॉ मन्नान अख्तर को सुनाई है।अब देखना यह है कि इन प्रशिक्षार्थियों के साथ सरकार की ओर से क्या बर्ताव किया जाता है।