आरएसएस का  20 दिवसीय शिविर संम्पन, प्रदेश टुकड़े-टुकड़े गैंग राष्ट्र हितैषी नहीं, सीएए का विरोध जायज नहीं :बनवीर 


ऊना (स्वतंत्र प्रयाग) आरएसएस हिमाचल प्रदेश द्वारा आयोजित 20  दिवसीय संघ शिक्षा वर्ग प्रथम वर्ष का शनिवार को गगरेट हलके के नकड़ोह स्थित शांति इंटरनेशनल पब्लिक स्कूल व बीएड कॉलेज में समारोप कार्यक्रम का आयोजन किया गया।


इस कार्यक्रम में पंजाब, हरियाणा, जम्मू-कश्मीर, दिल्ली सहित हिमाचल प्रांत के 337 स्वयंसेवकों ने भाग लिया। 20 दिन तक कठोर दिनचर्या का पालन करते हुए स्वयंसेवकों ने वर्ग में सीखे गए विभिन्न कार्यक्रमों नि:युद्ध, दंड-युद्ध, योगासन, पद-विन्यास व खेल का प्रदर्शन किया। वर्ग का वृत्त वर्ग कार्यवाह प्रताप सिंह ने प्रस्तुत किया।


 
कार्यक्रम में मंच पर डॉ.  वीर सिंह रांगड़ा प्रांत संघचालक,  बनवीर सिंह उत्तर क्षेत्र प्रचारक, कर्नल.जोगेन्द्र पाल शर्मा (सेवानि.) कार्यक्रम अध्यक्ष व वर्ग के वर्गाधिकारी चन्द्रशेखर उपस्थित रहे। कार्यक्रम के मुख्य वक्ता बनवीर सिंह ने वर्तमान समय में देश के समक्ष चुनौतियां विषय पर अपना उद्बोधन स्वयंसेवकों को दिया।


बनवीर सिंह ने कहा कि स्वयंंसेवक वर्ग में सीखे गए प्रशिक्षण लेकर समाज में जाकर देशहित के विभिन्न काम करेंगे तो ही उनके द्वारा लिए गए प्रशिक्षण सफल होगा। संघ का कार्य व्यक्ति को गुण संपन्न बनाना है। उन्होंने कहा कि  सन् 1925 में डॉ.हेडगेवार ने सदियों की गुलामी की मानसिकता के कारण बिखरे हुए हिन्दु समाज को संगठित करने का काम किया और राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ की स्थापना की।


आज यह विश्व का सबसे बड़ा स्वयंसेवी संगठन बन गया है। उन्होंने मजदूर संघ के संस्थापक दत्तोपंत ठेंगड़ी की जन्म शताब्दी के बारे में भी जानकारी दी। उन्होंने देश में नागरिकता संशोधन विधेयक का विरोध करने वाले जेएनयू के टुकड़े-टुकड़ गैंग के समर्थकों की कड़ी भत्र्सना की, साथ ही कहा कि यह गैंग राष्ट्र हितैषी नहीं है।


उन्होंने कहा नागरिकता कानून का विरोध गलत है। कार्यक्रम के अध्यक्ष सेेवानि. कर्नल जोगेन्द्र पाल ने संघ के द्वारा चलने वाले कार्यक्रमों की प्रशंसा की। उन्होंने कहा कि समापन कार्यक्रम में स्वयंसेवकों के प्रदर्शन से मुझे सेना के दिनों की याद आ गई। आजादी के समय 1947 में श्रीनगर हवाई अड्डे की सुरक्षा का काम, 1962 के युद्ध में सेना को राशन पहुंचाना व सामाजिक समरसता पर संघ के काम को भी सराहा।


उन्होंने संघ के स्वसंसेवकों को उत्कृष्ट देशभक्ति व उच्च चरित्र वाला बताया। संघ के वर्तमान स्वरूप को बनाने के लिए डॉ. हेडगेवार और गुरूजी गोलवल्कर की मेहनत का ही फल बताया और संघ के वर्ग को आयोजित करने की बधाई दी। अंत में वर्ग के वर्गाधिकारी चन्द्रशेखर ने शांति इंटरनेशनल पब्लिक स्कूल, स्थानीय प्रशासन, विद्युत विभाग का आभार किया।


इस कार्यक्रम में महंत सूर्यनाथ, प्रांत प्रचारक संजय सिंह,  प्रांत कार्यवाह किस्मत कुमार, सह प्रांत कार्यवाह डॉ. अशोक कुमार व चन्द्रप्रकाश ,केबिनेट मंत्री वीरेंद्र कँवर, प्रदेश भाजपा अध्यक्ष व विधायक डॉ. राजीव बिन्दल, पूर्व अध्यक्ष सतपाल सती, हिमुडा के उपाध्यक्ष प्रवीण शर्मा ,विधायक राजेश ठाकुर ,बलवीर चौधरी, कांगड़ा बैंक के चैयरमैन राजीव भारद्वाज सहित अन्य उपस्थित रहे।


टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

प्रधानमंत्री जी भारतीय आयुर्वेद चिकित्सा में,लेमन थेरेपी से कोरोना वायरस को मिल रही है मात,:-पूर्व डीजीपी मैथलीशरण गुप्त

Coronavirus से घबराएं नहीं,दो बूंद नींबू का रस लें, पिएं हल्दी युक्त गुनगुना पानी :-पूर्व डीजीपी मैथिलीशरण गुप्त

कल से बदल जाएंगे कई नियम , आम आदमी की जेब और घर के बजट पर इसका सीधा असर