शनिवार, 28 दिसंबर 2019

यूपी पुलिस ने मेरा गला दबाया ,धक्का देकर नीचे गिराया, मैं स्कूटी पर बैठी तो रास्ता रोका :- प्रियंका गांधी वाड्रा 

 




लखनऊ (स्वतंत्र प्रयाग)- कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी वाड्रा ने शनिवार को केंद्र की भाजपा सरकार पर निशाना साधते हुए कहा कि देश खतरे में है और सरकार युवाओं की आवाज दबा रही है। केंद्र सरकार और उसके नेताओं को कायर बताते हुए उन्होंने कहा, “कायरों के दो ट्रेडमार्क हैं- एक वे प्रतिद्वंद्वी के खिलाफ बल का उपयोग करते हैं और उसके बाद वे फिर निर्णय वापस लेते हैं।


” सुश्री वाड्रा ने शनिवार को 135 वें स्थापना दिवस के अवसर पर यहां पार्टी कार्यकर्ताओं को संबोधित करते हुए कहा, “मौजूदा सरकार कायर है। वे पहले प्रदर्शनकारियों पर हमला करते हैं और फिर उन्हें उग्र प्रदर्शनकारियों में शामिल करते है।”  उन्होंने कहा कि देश खतरे में है और सरकार युवाओं की आवाज दबा रही है।


प्रियंका गांधी ने शनिवार को नागरिकता संशोधन कानून के बाद उपजी हिंसा को भड़काने के आरोप में गिरफ्तार किए गए पूर्व आईपीएस एस.आर. दारापुरी के परिजन से मुलाकात की। इस दौरान कुछ देर के लिए प्रियंका को पुलिस ने रोक लिया। प्रियंका का आरोप है यूपी पुलिस ने गला दबाया और धक्का देकर गिराने का गंभीर आरोप लगाया है।


 प्रियंका ने पुलिस पर गंभीर आरोप लगाते हुए कहा, 'रास्ते में पुलिस की गाड़ी अचानक आगे आई और रोक लिया। पुलिस ने कहा कि जाने नहीं देंगे। मैं उतरकर पैदल चलने लगी तो पुलिस ने घेरा बनाकर मेरा गला दबाया और धक्का देकर गिराया। मेरे साथ बदसलूकी हुई। इसके बाद मैं पार्टी के एक कार्यकर्ता के साथ स्कूटी पर बैठकर जाने लगी तो फिर पुलिस ने रोका।


' उपद्रव मामले में गिरफ्तार सदफ जफर की जमानत अर्जी को कोर्ट खारिज कर चुकी है। सदफ जफर ने अर्जी में कहा था कि वह निर्दोष हैं और उन्होंने कोई अपराध नहीं किया है। युवाओं की आवाज दबा रही है। 



प्रियंका ने कहा कि देश के विभिन्न हिस्सों में छात्र और युवा देश के खिलाफ बने कानूनों के विरोध में आवाज उठा रहे हैं। सरकार बल द्वारा उनकी आवाज़ पर अंकुश लगाना चाहती है। उन्होंने कहा कि कांग्रेस ने लोगों की आवाज़ का नेतृत्व करने के लिए संघर्ष की इस चुनौती को स्वीकार किया है।


नागरिकता संशोधन कानून (सीएए) और एनआरसी संविधान विरोधी बताते हुये सुश्री वाड्रा ने कहा कि ऐसा कानून देश को विभाजित करने वाला है। मौजूदा सरकार हिंसा और बल के माध्यम से नागरिकों और छात्रों के शांतिपूर्ण विरोध पर अंकुश लगा रही है। ये लोग स्वतंत्रता आंदोलन में शामिल नहीं थे, उन्हें पता नहीं है कि संविधान और स्वतंत्रता का अर्थ क्या है।


उत्तर प्रदेश में सीएए के विरोध के दौरान मासूम की हत्या के बारे में उन्होंने कहा कि बिजनौर में एक 21 वर्षीय युवक की हत्या उस समय की गई जब वह दूध खरीदने जा रहा था। वह कोई प्रदर्शनकारी नहीं था। उनकी तरह कई अन्य लोग मारे गए या जेल गए क्योंकि वे सरकार के गलत फैसले के खिलाफ आवाज उठा रहे थे।


उन्होंने कहा अगर हम आज आवाज नहीं उठाते हैं तो हम कायर कहलाएंगे। इससे पहले सुश्री वाड्रा ने पार्टी नेताओं को संविधान की रक्षा, देश को बचाने और चुनौतियों से लड़ने की शपथ दिलाई। उन्होंने कहा कि राज्य सरकार को महिला सुरक्षा की चिंता नही है। कोई भी सरकारी अधिकारी उन्नाव बलात्कार पीड़िता के परिवार से मिलने नहीं गया।


प्रदेश कांग्रेस के अध्यक्ष अजय कुमार लल्लू ने कहा कि आज एक ऐतिहासिक दिन है। उन्होंने कहा कि कांग्रेस 135 साल पहले अंग्रेजों के खिलाफ लड़ने के लिए बनी थी। अब स्थिति फिर से उसी तरह बदल गई है अब पार्टी को सांप्रदायिक भाजपा और भ्रष्ट सरकार के खिलाफ लड़ना है


कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें