शुक्रवार, 27 दिसंबर 2019

यूपी मुख्यमंत्री ने निरीक्षण के दौरान जाना रैन बसेरों में रहने वालों का हाल 


लखनऊ (स्वतंत्र प्रयाग): उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कड़ाके की ठंड में रैन बसेरों का औचक निरीक्षण किया और वहां आश्रय लिए हुए लोगों का हाल-चाल लिया और मेडिकल काॅलेज, अस्पतालों, रेलवे स्टेशन, बस अड्डा परिसर में एक-एक रैन बसेरा स्थापित करने के अधिकारियों को निर्देश दिए।सरकारी प्रवक्ता ने यहां यह जानकारी दी। उन्होंने बताया कि गुरूवार देर रात श्री योगी ने लखनऊ के लक्ष्मण मेला मैदान और पुराने एसएसपी कार्यालय के पास एवं केजीएमयू स्थित रैन बसेरों को निरीक्षण किया और वहां रह रहे लोगों का हाल जाना। उन्होंने अधिकारियों को निर्देश दिए हैं कि प्रत्येक मेडिकल काॅलेज, अस्पताल, रेलवे स्टेशन, बस स्टेशन के परिसर में एक-एक रैन बसेरा स्थापित किया जाए। 



उन्होंने कहा कि जिला प्रशासन/स्वास्थ्य विभाग/नगर निगम/नगर निकाय द्वारा यह रैन बसेरे स्थापित किए जाएं और साथी ही यह भी सुनिश्चित किया जाए कि कोई भी व्यक्ति जो अपने परिवार के रोगी की चिकित्सा के लिए शहर आया है, उसे किसी भी हालत में खुले में सोने पर मजबूर न/न होना पड़े। यह भी सुनिश्चित किया जाए कि कोई भी व्यक्ति पटरी अथवा सड़क के किनारे न सोए।मुख्यमंत्री ने अधिकारियों को रैन बसेरों को व्यवस्थित और साफ-सुथरा रखने के निर्देश देते हुए कहा कि महिला एवं पुरुष शौचालयों की अलग-अलग व्यवस्था की जाए। रैन बसेरों में पर्याप्त बेड, कम्बल, चादर तथा गर्म पानी इत्यादि उपलब्ध हों। चादरों को नियमित रूप से बदला जाए। उन्होंने निर्देश दिए कि रैन बसेरों में उचित स्थान पर सीसीटीवी की भी व्यवस्था सुनिश्चित की जाए। उन्होंने कहा कि प्रदेश सरकार ने जिलाधिकारियों को जरूरतमन्दों को कम्बल व ऊनी कपड़े उपलब्ध कराने के लिए 19 करोड़ रुपए की धनराशि दी गई है। इस अनुदान राशि का सदुपयोग करते हुए जिला प्रशासन जरूरतमन्दों को तुरन्त कम्बल व ऊनी कपड़े उपलब्ध कराए।इस अवसर पर नगर विकास मंत्री आशुतोष टण्डन, जल शक्ति मंत्री डाॅ0 महेन्द्र सिंह, लखनऊ की महापौर श्रीमती संयुक्ता भाटिया, मुख्य सचिव आर के तिवारी, अपर मुख्य सचिव गृह एवं सूचना अवनीश कुमार अवस्थी, जिलाधिकारी लखनऊ अभिषेक प्रकाश, एसएसपी कलानिधि नैथानी, नगर आयुक्त डा0 इन्द्रमणि त्रिपाठी एवं अन्य वरिष्ठ अधिकारी उपस्थित थे।


कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें