सोमवार, 9 दिसंबर 2019

यूपी में कानून व्यवस्था ध्वस्त, कांग्रेस ने आजमगढ़ में निकाला आक्रोश मार्च


लखनऊ(स्वतंत्र प्रयाग)उत्तर प्रदेश कांग्रेस के प्रदेश अध्यक्ष अजय कुमार लल्लू ने सोमवार को प्रदेश में ध्वस्त कानून व्यवस्था को लेकर आजमगढ़ में आक्रोश मार्च निकाला। आक्रोश मार्च के बाद आयोजित जनसभा में लल्लू ने कहा कि प्रदेश अपराधियों के चंगुल मे जकड़ गया है और सरकार बेबस और कमजोर साबित हो गयी है। सरकार के मुखिया आदित्यनाथ योगी नैतिकता के आधार पर इस्तीफा दें।


अजय कुमार लल्लू ने कहा कि प्रदेश में महिलाओं के विरुद्ध बढ़ रही हिंसा और दुष्कर्म की घटनाएं सरकार के मुँह पर तमाचा है। चारों तरफ हिंसक घटनाएं बढ़ रही हैं। सरकार और उसके प्रतिनिधि गलल बयानबाजी कर रहे हैं। उन्नाव, शाहजहांपुर, कानपुर जनपदों में महिलाओं और बच्चियों से बलात्कार व हत्या के आरोपियों को सरकारी संरक्षण उजागर हो गया है। सरकार बेशर्म हो गयी है और महिलाओं को सुरक्षा देने मे विफल साबित हुई है।


उन्होंने सरकार की नीतियों को आड़े हाथों लेते हुए कहा कि चीनी मिल मालिकों की गोद में योगी सरकार खेल रही है, इसलिये बीज, खाद, डीजल और बिजली का मूल्य बढ़ाने के बावजूद दो साल से गन्ने का मूल्य एक रुपया भी नही बढ़ाया। जबकि प्रदेश का गन्ना किसान मूल्य वृद्धि की उम्मीद में था। हजारों करोड़ रूपए गन्ना मूल्य मिलों पर बाकी है और किसान दर-दर की ठोकरें खा रहा है।


प्रदेश अध्यक्ष ने सरकार को घेरते हुए कहा कि पिछले तीन दशक से गैर कांग्रेसी सरकारे प्रदेश को बेरोजगारी और अराजकता ही दे पायी हैं। जब कांग्रेस पार्टी के साथी महिलाओं के सम्मान और सुरक्षा के लिये आन्दोलन करते हैं। तो सरकार लाठी से पीटती है और फर्जी मुकदमें दर्ज कर जेल भेजती है। जिसके माध्यम से वह जनहित के मुद्दों को दबाना चाहती है। कांग्रेस पार्टी ने प्रदेश की महिलाओं की सुरक्षा बेहतर बनाने के लिये सड़क से सदन तक की लड़ाई शुरु की है और इसमें भरपूर जन समर्थन मिल रहा है।


जनसभा को प्रदेश कांग्रेस के महासचिव विश्वविजय सिंह और सचिव शाहनवाज आलम सहित जिलाध्यक्ष प्रवीण सिंह और वरिष्ठ कांग्रेसजनों ने सम्बोधित किया। सभा के बाद कांग्रेस ने एडीएम को ज्ञापन सौंपा। यह आक्रोश मार्च ब्रह्मस्थान, पाण्डेयपुर, सिब्ली कालेज, पहाड़पुर, मातबरगंज होते हुए कचेहरी पर समाप्त हुआ। इस मार्च में पुनीत राय, अन्शुमानी राय, रविशंकर पाण्डेय, दिनेश यादव, दिनेश सरोज, आशुतोष द्विवेदी, मोहम्मद नजम शमीम, प्रिन्स सिंह और प्रदीप यादव सहित कार्यकर्ता उपस्थित रहे


कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें