सोमवार, 9 दिसंबर 2019

यूपी एसटीएफ ने किया साॅल्वर गैंग का भांडाफोड़, सरगना सहित 10 लोग गिरफ्तार


लखनऊ(स्वतंत्र प्रयाग) यूपी एसटीएफ को केन्द्रीय शिक्षक पात्रता परीक्षा सीटीईटी-2019 में साॅल्वर गैंग का भांडाफोड़ करते हुए साल्वर गैंग के सरगना सहित 10 सदस्यों को गिरफ्तार करने में सफलता हासिल की है।


जिसमें पकड़े गये आरोपियों की पहचान नाजिम हुसैन पुत्र ताहिर हुसैन, दानिश पुत्र नवाब, निवासी सुन्दर नगर, थाना ठाकुरद्वारा, जनपद मुरादाबाद, विपिन कुमार पुत्र हेम सिंह, राजकुमार कश्यप पुत्र ओम प्रकाश, निवासी हाकमपुर, थाना हसनपुर, जनपद अमरोहा, विक्की कुमार पुत्र मनोज कुमार, सुशांत सहगल पुत्र संजय कुमार, निवासी पून्हा, थाना रहोई, जनपद नालन्दा बिहार, मुकेश पुत्र शिव पंडित, निवासी जानपुर थाना भदौर, पटना, चन्दन आनन्द पुत्र मिथलेश सिंह, राजमणि पुत्र अनिल प्रसाद, निवासी पैन, थाना सिकपुरा, जनपद सिकपुरा बिहार और चन्दन पुत्र स्व0 विनोद महतो निवासी वाड, थाना वाड, पटना बिहार के रूप में हुई।



एसटीएफ ने बताया कि, हिन्दू कालेज, मैथोडिस गर्ल्स इन्टर कालेज, आरआरके, वेदराम कालेज, पाकबडा, सरस्वती विद्या मन्दिर, गुलाबबाड़ी जनपद-मुरादाबाद विगत काफी दिनों से उत्तर प्रदेश में विभिन्न प्रतियोगी परीक्षाओं में अवैध तरीके से परीक्षा कराने वाले गिरोह व साल्वरों के खिलाफ अभियान चलाया जा रहा है। जिसमें बताया कि 8 दिसंबर को आयोजित होने वाली केन्द्रिय शिक्षक पात्रता परीक्षा सीटीईटी-2019 में किसी प्रकार की अनियमितता न हो इसके लिए एसटीएफ टीम को लगाया था।


इसी दौरान मुखबिर सचूना प्राप्त हुई कि उक्त नाजीम, दानिश, विपिन, सचिन अपने साथियो के साथ मिलकर बिहार से साॅल्वर गैंग बुलाया है, जो मुरादाबाद के विभिन्न काॅलेजो मे परीक्षा देगें।


उन्होंने बताया कि, इस सूचना को जनपद मुरादाबाद पुलिस से साझा कर हिन्दू कालेज के पास से नाजीम, दानिश, राजकुमार कश्यप् को पकड़ा गया। इन लोगांे ने बताया की हिन्दू कालेज के अन्दर राजकुमार के स्थान पर शुशांत व इन्द्रपाल के स्थान पर विक्की कुमार परीक्षा दे रहे हैं।


आरआरके स्कूल में अनूज के स्थान पर मुकेश, आशोक कुमार के स्थान पर चन्दन आनन्द परीक्षा दे रहा था। इसके अतिरिक्त मुरादाबाद के पाकबाड़ा थाना क्षेत्र के वेदराम इन्टर कालेज में सुभाष के स्थान पर राजमणि व कटघर थाना क्षेत्र में सरस्वती विद्या मन्दिर गुलाबबाड़ी में दिनेश के स्थान पर चन्दन परीक्षा दे रहे थे।


गिरफ्तार आरोपी नाजीम, दानिश व विपिन ने बताया कि उसने सचिन के साथ मिलकर रू0 2,50,000 में इन्द्रपाल, राजकुमार, अनूज, अशोक कुमार, सुभाष व दिनेश से तय किये थे। राजकुमार ने आज रू0 50,000 नाजीम को दिये बाकी लोगो ने शेष पैसा सचिन को दिया था जो आज मौके से निकल गया। सचिन ने साॅल्वर बिहार से मंगवाये थे। सचिन वर्ष 2018 में भी बिहार के साल्वर गैंग के साथ मुरादाबाद मे पकड़ा गया था।


बाकि पैसा परीक्षार्थी 'एन्सर की' आने के बाद नाजीम, दानिश व सचिन को देते। पकडे़ गये अपराधियों ने फर्जी आधार कार्ड बनाकर परीक्षार्थी के आधार कार्ड पर अपना फोटो लगाकर परीक्षा केन्द्र में परीक्षा देने पहुॅच गये।


साथ ही उन्होंने यह भी बताया कि वह जो साॅल्वर बुलाता है उसका फर्जी पैन कार्ड जिस परीक्षार्थी के स्थान पर बैठते हैं उसके नाम से तैयार कर उस पर साॅल्वर का फोटो लगा देते हैं। ऐसे परीक्षार्थी फार्म भरने के समय से ही हम लोगों के सम्पर्क में रहते हैं, उस समय इनका धुधला फोटो फार्म पर लगाते हैं जिससे परीक्षा के समय आसानी से पकड़े न जा सकें। सचिन इससे पूर्व भी परीक्षा कराने के सम्बन्ध में जेल जा चुका है।


गिरफ्तार आरोपियों के खिलाफ थाना कोतवाली, कटघर, पाकबावाड़ा एवं सिविल लाईन, जनपद मुरादाबाद में मुकदमा दर्ज कराया गया है। जिसके बाद ही आगे की विधिक कार्यवाही स्थानीय पुलिस द्वारा की जा रही


कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें