रविवार, 8 दिसंबर 2019

संवेदना के साथ मरीजों का इलाज कर बढायें मेडिकल कॉलेज की गरिमा: योगी



झांसी (स्वतंत्र प्रयाग): उत्तर प्रदेश के झांसी में दो दिवसीय दौरे पर आये मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने महारानी लक्ष्मीबाई मेडिकल कॉलेज की सुपर स्पेशलिटी ब्लॉक का रविवार को उद्घाटन किया साथ ही उपस्थित मेडिकल जगत के लोगों को संवेदनशील होकर मरीजों से व्यवहार और इलाज करने की अपील की। यहां मेडिकल कॉलेज में मुख्यमंत्री योगी ने केंद्रीय स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्री डॉ़ हर्षवर्धन तथा प्रदेश सरकार के वित्त, संसदीय कार्य एवं चिकित्सा शिक्षा मंत्री सुरेश कुमार खन्ना के साथ दीप प्रज्ज्वलित कर और फीता काटकर सुपर स्पेशलिटी ब्लॉक का उद्घाटन किया और वहां बने वार्डों का निरीक्षण भी किया।


इसके बाद आयोजित जनसभा को सम्बोधित करते हुए मुख्यमंत्री ने कहा “ बुंदेलखंड में लोगों की आथिक स्थिति ऐसी नहीं है कि सभी प्राइवेट अस्पतालों में महंगी स्वास्थ्य सेवाएं ले पाये इसलिए वह सरकारी अस्पतालों और मेडिकल कॉलेज में आते हैं। आप लोग संवेदनशील होकर एक मरीज को देखें और उसे सुविधाए दें तो उसकी आधी बीमारी तो खुद ही खत्म हो जायेगी। आपकी संवेदना और आपका मरीज के साथ व्यवहार, आपको एक बहुत अच्छे डॉक्टर के रूप् में स्थापित कर सकता है आपको एक नयी पहचान दिला सकता है।”


 


झांसी के मेडिकल कॉलेज के बारे में कम शिकायतें मिलने की बात कहकर जहां एक ओर मुख्यमंत्री ने डॉक्टरों की पीठ थपथपायी तो दूसरे ही क्षण यह भी इंगित कर दिया कि जूनियर डॉक्टर मरीजों के परिजनों साथ मारपीट कर फिर काम रोककर जो धरना प्रदर्शन करते हैं ,इसकी भी उनको पूरी जानकारी है। उन्होंने इशारों ही इशारों में सीनियर और जूनियर डॉक्टरों को आईना दिखाते हुए संवेदना के साथ काम करने का पाठ भी पढ़ाया।उन्होंने कहा “ आपको सोचना होगा कि हमारी डॉक्टरी की सेवा वंचित के लिए हो उसके लिए हो जो छूट चुका है।


आम लोगों के लिए आपको तैयार होना होगा, इस काम में एक डॉक्टर की संवेदना बहुत महत्वपूर्ण काम कर सकती है। जब मेडिकल कॉलेज में कोई जूनियर डॉक्टर मरीजों के परिजनों के साथ बदसलूकी करता है या मारपीट करता है और उसके बाद सब मिलकर धरना प्रदर्शन पर बैठ जाते हैं तो आपमें और सामान्य नागरिक में कोई अंतर नही रह जाता है।


कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें